लापता विमान की तलाश होगी, सॉफ्टेवयर की मदद से

Jul 28, 2016

वायुसेना के लापता विमान एएन 32 की तलाश के लिए वैज्ञानिकों ने एक सॉफ्टवेयर विकसित किया है जिसकी मदद से विमान के मलबे तथा उसमें सवार लोगों की तलाश का काम किया जाएगा.

विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री डॉ. हर्षवर्द्धन ने बुधवार को नई दिल्ली में एक कार्यक्रम के दौरान बताया कि इंडियन नेशनल सेंटर फॉर ओशन इंफोर्मेशन सर्विसेज (आईएनसीओआईएस) ने यह सॉफ्टवेयर विकसित किया है. इसे बुधवार को केंद्रीय मंत्री की मौजूदगी में तटरक्षक बल को सौंपा गया.

डॉ. हर्षवर्द्धन ने सेंटर के वैज्ञानिकों की तारीफ की और कहा कि लापता विमान की तलाश का काम वाकई काफी दूभर है. 40 लाख वर्ग किलोमीटर के दायरे में विमान की तलाश की जा रही है. सॉफ्टवेयर इस खोज को उन क्षेत्रों तक सीमित कर देगा जहां मलबा होने की संभावना है.

विमान में चालक दल समेत 29 लोग सवार थे. यह 22 जुलाई को चेन्नई के ताम्बरम् वायुसेना अड्डे से पोर्ट ब्लेयर के लिए रवाना हुआ. उड़ान भरने के कुछ देर बाद ही यह लापता हो गया. नौसेना के 13 तथा तटरक्षक बल के दो जहाज विमान की तलाश में लगाए गए हैं.

इसके अलावा नौसेना तथा वायुसेना के विमान भी तलाश अभियान में मदद कर रहे हैं। इसमें भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के उपग्रह की सहायता ली जा रही है.

अन्य ख़बरों से लगातार अपडेट रहने के लिए हमारे Facebook पेज को Join करे

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>