आखिर क्यों फसता जा रहा है ISIS एजेंट जमालुद्दीन का मामला

Sep 08, 2016
आखिर क्यों फसता जा रहा है ISIS एजेंट जमालुद्दीन का मामला

रांची। यूपी एटीएस के हत्थे चढ़े आईएसआई एजेंट जमालुद्दीन के मामले में झारखंड एटीएस (आतंकवाद निरोधक दस्ता) की टीम ने पड़ताल तेज कर दी है। तीन अफसरों की टीम ने रविवार को होटल कैपिटल हिल के प्रबंधन से जमालुद्दीन के मामले में विस्तार से जानकारी ली। लेकिन विभिन्न साक्ष्यों और अलग-अलग बयानों से मामला उलझता नजर आ रहा है। इस बात की आशंका उठने लगी है कि यूपी एटीएस के हत्थे चढ़ा जमालुद्दीन गिरिडीह के दयालपुर का है या कोई और है।

गिरिडीह के राजधनवार थाना क्षेत्र के दयालपुर स्थित आवास पर जमालुद्दीन नहीं है। वहां के लोग बता रहे हैं कि वह चचेरी बहन की मैयत में दो-तीन दिन पूर्व कोडरमा जिले के मरकच्चो थाना क्षेत्र के भोजपुर गया हुआ था। लेकिन वह लौटा नहीं है। 24 अगस्त को यूपी एटीएस की गिरफ्त में आया जमालुद्दीन अब भी यूपी की जेल में है। इससे यह प्रतीत होता है कि दयालपुर का जमालुद्दीन कोई और है या ग्रामीण गलत जानकारी दे रहे हैं। उत्तर प्रदेश पुलिस को गिरफ्तार जमालुद्दीन के हवाले से जो पासपोर्ट मिला था, उसमें

उसका पता जमानियां, गाजीपुर दर्ज है। दूसरी ओर रांची के होटल कैपिटल हिल में काम करनेवाले जमालुद्दीन के पासपोर्ट का पता गिरिडीह जिले के राजधनवार थाना क्षेत्र अंतर्गत दयालपुर गांव का है। ऐसे में जांच एजेंसियों की उलझन बढ़ गई है।
एक से ज्यादा पासपोर्ट की आशंका

यूपी एटीएस की पूछताछ में जमालुद्दीन ने रांची के होटल कैपिटल हिल में काम करने की बात कही थी। होटल के मालिक आशीष भाटिया का कहना है कि जमालुद्दीन ने उनके यहां करीब दस महीने काम किया था। ऐसे में संभावना यह भी है कि जमालुद्दीन ने एक से ज्यादा पासपोर्ट बनवाए थे। यह भी संभव है कि एक जमालुद्दीन ने दूसरे जमालुद्दीन की तस्वीर में छेड़छाड़ कर खुद का पासपोर्ट बनवाया हो।
जमशेदपुर के होटल में काम कर रहा जमालुद्दीन

गिरिडीह जिले के बगोदर थाना क्षेत्र के दयालपुर गांव के लोगों का कहना है कि वे जिस जमालुद्दीन को जानते हैं, वह सीधा-सादा एवं साधारण परिवार का सदस्य है। इस जमालुद्दीन ने रांची के होटल कैपिटल हिल में काम किया था। इसके बाद उसने जमशेदपुर स्थित दयाल इंटरनेशनल होटल एवं उसके बाद बिष्टुपुर स्थित बिरयानी हाउस नामक होटल में उसने काम किया था। अभी वह जमशेदपुर के ही आजाद नगर में स्थित दो महल नामक होटल में लगभग एक वर्ष से कार्यरत है।
दो दिन पहले जमशेदपुर में था!

यूपी एटीएस के हत्थे चढ़े आईएसआई एजेंट जमालुद्दीन को लेकर पुलिस दुविधा में है। जमशेदपुर के होटल महल इन में काम करने वाला जमालुद्दीन 48 घंटे पूर्व तक जमशेदपुर में था, जबकि उत्तर प्रदेश में गिरफ्तार किया गया जमालुद्दीन 24 अगस्त से जेल में है। फिर सवाल यह उठता है कि यूपी की जेल में बंद जमालुद्दीन झारखंड के कई होटलों में काम कर चुकने की कैसे जानकारी दे रहा है। जमालुद्दीन जमशेदपुर के आधा दर्जन से अधिक होटलों में काम कर चुका है।
एसएसपी से मिलने पहुंचे महल इन के मालिक

जमालुद्दीन अंतिम समय में मानगो के चेपा पुल स्थित होटल महल इन में काम करता था। होटल के मालिक आसिफ मेहमूद को होटल के कर्मचारियों ने बताया कि यह लड़का उनके यहां काम करता था। मेहमूद बताते हैं कि यह उनके होटल में नवंबर 2015 से काम कर रहा था और दो सितंबर को यहां से गया था। वह इसकी सूचना देने रविवार रात को एसएसपी आवास पहुंचे। उन्होंने बताया कि यह लड़का परसों रात करीब आठ बजे उनके जीएम के ऑफिस में रोते हुए पहुंचा। उसने बताया कि उसे घर जाना है, उसकी बहन की सड़क दुर्घटना में स्पॉट डेथ हो गई है। उसने किराये के लिए 500 रुपये लिए और उसी समय निकल गया।

अन्य ख़बरों से लगातार अपडेट रहने के लिए हमारे Facebook पेज को Join करे

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>