जानिए-घर में कौन सा पेड़ पौधा लगा होना चाहिए

Feb 11, 2017
जानिए-घर में कौन सा पेड़ पौधा लगा होना चाहिए

तुलसी
यह झाड़ीनुमा पौधा होता है बीज से नया बनता है । इसके बहुत सारे अवसर दी गुणों को के कारण तुलसी बहुत उपयोग में आता है । यह एक पर्यावरण सुधारक पौधा भी है ।

उड्सह
यह झाड़ीनुमा बड़े पत्ते वाला पौधा होता है ।इस में सफेद रंग के पुष्प निकलते हैं इस पौधे को कलम से लगाया जा सकता है ।

गिलो
इस पौधे को नीम गिलोय अमृता भी कहते हैं। यह एक पान के जैसे पत्तों वाला भी बेल है और तने के टुकडे से एक नया पौधा बनता है।

नीम
नीम के पेड़ है और इससे बीज द्वारा लगाया जाता है इसे खुली जगह पर लगाए जाना चाहिए और गिलो की बेल को इसके साथ लगाना चाहिए ।

आवला
आवला एक पेड़ है और इसे भी से यह कलम के द्वारा लगाया जा सकता है ।

पुदीना
पुदीना एक खुशबू पौधे के रूप में जाना जाता है इस का प्रशारण भूप राग करी शाखाओं से होता है। इसकी पत्तियों का औषधि के लिए प्रयोग किया जाता है ।

अनार
अनार लगभग सभी फल वाटिका में लगाया जाता है। इस वीर्कलम के द्वारा लगाया जाता है। इसका उपयोग पर लड़की छल फल में छिलका और फल के रस है ।एक अनार सौ बीमारी ठीक होने की कहावत में बहुत हद तक सच्चाई है ।

अश्वगंधा
यह एक झाड़ीनुमा पौधा है और बारिश के मौसम में बीच से होता है इसका मुख्य उपयोगी भाग जड़ है जिसको अक्टूबर से नवंबर के बाद पत्ते झड़ ने पर पौधा उखाड़ कर जड़ से अलग का उपयोग किया जाता है ।

औषधियों को लगातार सेवन करने से शरीर उन्हें भोजन माननीय लगता है और इनका असर कम हो जाता है इसलिए 10 से 15 दिन के प्रयोग के बाद एक हफ्ते के अंतराल देकर दुबारा सेवन करना चाहिए ।उपरोक्त सभी औषधियां शरीर के रोग से लड़ने की ताकत अत बढ़ाती है कोई भी रोग के कंप्यूटर के आधार पर डॉक्टर से परामर्श जरूर करें।

इन पौधों के फायदे और उपयोग

अश्वगंधा
इसके जड़ के पाउडर दूध के साथ सेवन करने से थकान कमजोरी और जोड़ों के दर्द में लाभ होता है। अश्वगंधा और शतवार के जड़ का सामान्य भाग दूध के साथ लेने से अधिक लाभ होता है । अश्वगंधा के पत्तो को पौधे और फुंसी पर लगाने से लाभ मिलता है ।

अनार
इसकी जड़ की छालको पानी में उबालकर दिन में चार से छह बार पीने से बहुत फायदे होते हैं। फल का रस रक्त में हीमोग्लोबिन बढ़ाता है ।दिल के रूप में भी यह बहुत लाभकारी है ।फल के छिलके का काड़ा अक्सर रोगियो के रोग को खत्म कर देता है ।

पुदीना
पुदीने के पत्तों को पीसकर सेवन करने से दस्त में आराम मिलता है ।पत्तों के रस अदरक के रस के साथ बराबर मात्रा में सेवन करने से बुखार ,पेट के दर्द भूख नहीं लगना जैसे बीमारियों में लाभ मिलता है ।

आंवला
इसकेे फल के रस का सेवन करने से शरीर में रोगरोधक शक्ति ज्यादा आती है । आंवला आंख दिमाग और दिल को ज्यादा अच्छे से काम करने में मदद भी करता है।

नीम
इसकी छल घिसकर गरम चर्म रोगों में बहुत फायदे करती है । इस की टहनी से दांतों की सफाई कर सकते हैं । चार से पांच कोमल लाल पत्तियों को सुबह खाने से मधुमेह और उदार जैसी अन्य बहुत सी बीमारियां नहीं होती है। सूखी पत्तियों की धुंआ मच्छर भगाने के काम भी आती है ।

तुलसी
तुलसी के दो से पांच पत्तियों को  पानी या दूध के साथ सेवन से खांसी ,जुखाम ,बुखार ,उच्च रक्तचाप ,ब्लड प्रेशर में बहुत ज्यादा लाभ होता है इसका कोई भी साइड इफेक्ट नहीं।

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>