ये क्या अस्सी घाट तो डूब गया, गलियों में चल रही है नाव, मोदी का पसंदीदा घाट

Aug 22, 2016
ये क्या अस्सी घाट तो डूब गया, गलियों में चल रही है नाव, मोदी का पसंदीदा घाट

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी के जिस अस्सी घाट पर खुद कारसेवा की और जहां की सीढ़ियों को लोगो ने कई दशकों बाद देखा, वह घाट भारी बारिश के बाद बाढ़ की भेंट चढ़ चुका है. इन घाटों पर आज भी शाम ए बनारस और सुबह ए बनारस देखने के लिए सैलानी दूर-दूर से आते हैं.

अस्सी घाट की गलियों में नाव
गंगा में आई भीषण बाढ़ की भेंट चढ़ चुके इस घाट को फिलहाल देखा नहीं जा सकता है. अस्सी घाट पूरी तरह डूब चूका है. सुबह ए बनारस के मंच का सिर्फ ऊपरी सिरा दिख रहा है. यहीं नहीं अस्सी घाट की गलियों में सिर्फ नावें चल रही हैं.

पीएम मोदी ने घाट पर की थी कारसेवा
पीएम बनने के बाद मोदी ने खुद यहाँ कार सेवा की थी. इसके बाद अस्सी घाट सैलानियों का सबसे पसंदीदा घाट बन गया था, लेकिन यहां चारों ओर सिर्फ पानी ही पानी है. अस्सी घाट के आसपास के सभी होटलों में पानी प्रवेश कर चुका है. इसके बाद कई होटलों को बंद करना पड़ा है.

वाराणसी के सभी घाट जलमग्न
गंगा का जलस्तर बढ़ने के बाद वाराणसी के सभी घाट जलमग्न हैं. दशाश्वमेध घाट की आरती रस्मी तौर पर छत के ऊपर हो रही है, तो शवदाह के लिए न तो मणिकर्णिका घाट पर जगह बची है न ही हरिश्चंद्र घाट पर. आलम ये है कि लोग शवों को गलियों में जला रहे हैं.

2013 में भी दिखा था ऐसा मंजर
स्थानीय लोगों की मानें तो 2013 में भी वाराणसी में गंगा ने कुछ ऐसा ही कोहराम मचाया था. अगर गंगा में पानी बढ़ने की रफ्तार नहीं थमी तो इस बाढ़ से शहर को भी खतरा पैदा हो सकता है. बहरहाल वाराणसी पीएम मोदी का संसदीय क्षेत्र है. इसलिए प्रशासन यहां खासा मुस्तैद दिखाई दे रहा है

अन्य ख़बरों से लगातार अपडेट रहने के लिए हमारे Facebook पेज को Join करे

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

Jan 19, 2018

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>