जानिए- गांधी के परिवार की आज क्या स्थिति है

Feb 03, 2017
जानिए- गांधी के परिवार की आज क्या स्थिति है

राष्ट्रपिता महात्मा गांधी जिनका नाम हर बच्चा बच्चा जानता है .सब को पता है की उन्होंने हमारे लिए कितनी बड़ी क़ुरबानी दी है . फिर भी आज उनके परिवार की क्या दशा है हम आपको बताते है .

ज्यादातर सब पार्टी अपने आप को आगे ले जाने के लिए उनके नाम और तस्वीर का इस्तेमाल करती है .

चाहे वो कांग्रेस पार्टी हो या केंद्र सरकार . तो आप ही बताइए की ये कैसे हो सकता है की उनके परिवार का ख्याल न रखा जाता हो . पर ये बात बिलकुल सच है की उनके खुद के पौत्र कनु रामदास और उनकी पत्नी किस स्थिति में है. आपको जानकार हैरानी होगी जी हाँ, पता चला है की ये गांधी परिवार दिल्ली के एक वृद्धाश्रम में रहता है .

और इनका हाल चाल कोई भी पार्टी और यहाँ तक कोई भी केंद्र सरकार नहीं पूछ रही है . तो अप ही बताइए इसको क्या समझा जाए . की ये सब पार्टी स्वार्थी है बस गाँधी जी के तस्वीर का इस्तेमाल करना जानती है . उसे कोई मतलब नहीं है की उनका परिवार कैसा है कहाँ है और क्या कर रहा है . कम से कम इतना तो सोचना चाहिए की जिस महान पुरुष ने हमारे लिए उर इस देश के लिए इतना बड़ा त्याग किया उसके परिवार का थोडा ख्याल तो रखे .

चलिए आपको बताते है जब मीडिया ने पूछा इन सब के बारे में तो उन्होंने क्या जवाब दिया. उनसे पूछा गया की क्या किसी ने उनकी मदद नहीं की? तो कनु गांधी ने कहा, ' मुझे किसी के आगे हाथ फैलाना अच्छा नहीं लगता .मुझे भीख में मिली हुई मदद नहीं चाहिए . कुछ दिन पहले प्रधानमंत्री वर्धा के सेवाग्राम में यहाँ आए थे, मैंने खुद उन्हें पूरा आश्रम दिखाया था .

और उन्होंने मुझसे यहाँ तक भी कहा की अगर आपको मेरी किसी मदद की जरुरत हो तो आप मेरे पास आ सकते है मैं आपके लिए जरुर कुछ करूँगा . पर क्या करू मैं अपनी आदत से मजबूर हु.

मेरे अन्दर भी महत्मा गांधी का खून है .मुझे किसी के आगे हाथ फैला कर मदद मांगना अच्छा नहीं लगता .

कनु गांधी जी कहते है की मैंने नासा में बहूत दिन तक काम किया है .मुझे आज भी वो दिन बहूत याद आते है . मैं कभी कभी सपने में नासा को देखता हु और अचानक से उठ कर रोने लगता हु की वो भी क्या दिन थे . और आज मेरी हालत तो देखो कैसी हो गयी है .और मुझे बुरा तो तब सबसे ज्यादा लगता है जब मैं अपनी पत्नी को देखता हु .

कनु गांधी कहते है की मुझे आदत नहीं है किसी के सामने हाथ फ़ैलाने की . अगर कोई भी मेरी मदद करना चाहता है तो इस प्रकार करे की मुझे लगे की मैं मजबूत हु न की मजबूर हु . उन्होंने कहा की पिछले एक हफ्ते से इस आश्रम में लोगो का आना जाना बढ़ गया है . पर अभी तक किसी नेता या पार्टी या सरकार ने मेरी हालत नहीं पूछी . वहीँ जब मीडिया ने वहां के मालिक से पूछा “तो उन्होंने कहा की सच में विश्वास नहीं होता है की ये दुनिया कितनी स्वार्थीहै .

जिस इंसान ने कभी अपने बारे में नहीं सोचा और हमारे और देश के लिए इतनी बड़ी क़ुरबानी दी .उनके पोता कनु गांधी और उनका परिवार कितनी बुरी हालत में है और यहाँ आश्रम में है . ये सच में एक शर्मनाक बात है . पर मीडिया ने यहाँ तक बात नहीं ख़त्म की बल्कि वो महात्मा गांधी के पड़पोते तुषार गांधी के पास भी गए तो उन्होंने कहा, की कनु गांधी की जो भी स्थिति है उनके जिम्मेदार वो खुद है .

जो लोग महात्मा गाँधी के संगठनों को चलाते है उन लोगों ने पिछले चार साल से दोनों पति-पत्नी की खूब सेवा की है हर बात मानी है .पर हैरानी की बात तो ये है की कनु गांधी जी इस बात का आभार भी नहीं मानते है . इसलिए गांधी परिवार का ये कहना है की इसमें सरकार की कोई गलती नहीं है . और वो इस चीज के लिए बाध्य भी नहीं है की वो हमेशा गाँधी जी के परिवार की मेहमानवाजी करे और उनकी हर बात माने जिंदगी भर जिम्मेदारी ले .

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>