विराट की कप्तानी में टीम इंडिया ने रचा इतिहास, 85 साल में पहली बार विदेश में मिली 3-0 से जीत

Aug 14, 2017
विराट की कप्तानी में टीम इंडिया ने रचा इतिहास, 85 साल में पहली बार विदेश में मिली 3-0 से जीत

टीम इंडिया ने बल्लेबाज़ों के बेहतरीन प्रदर्शन और गेंदबाज़ों के लाजवाब गेंदबाज़ी से श्रीलंका को तीसरे और सीरीज के आखिरी टेस्ट में एक इनिंग और 171 रन से हरा दिया है। इसके साथ ही भारत ने सीरीज पर 3-0 से कब्जा किया है।

बता दें कि 85 साल से टेस्ट खेल रही इंडियन टीम ने पहली बार तीन या उससे ज्यादा मैचों की टेस्ट सीरीज में क्लीन स्वीप करने का कारनामा कर दिखाया है। जहाँ इंडियन टीम ने तीसरे टेस्ट में पहले बैटिंग करते हुए कुल 487 रन बनाए थे। लेकिन जवाब में श्रीलंकाई टीम पहली इनिंग में 135 पर ही पूरी टीम आउट सिमट गई। लेकिन जब श्रीलंकाई टीम दूसरी इनिंग में बैटिंग करने उत्तरी तब भी कुछ कमाल नहीं कर पाई और पूरी टीम181 रन ही बना सकी। जहाँ इंडियन टीम की तरफ से मैच में मोहम्मद शमी, आर अश्विन और कुलदीप यादव ने 5-5, उमेश यादव ने 2, और हार्दिक पंड्या ने 1 विकेट चटकाए। टेस्ट मैच में अपनी पहली सेन्चुरी लगाने वाले हार्दिक पंड्या को ‘मैन ऑफ द मैच’ का अवार्ड दिया गया जब कि, सीरीज में दो सेन्चुरी लगाने वाले शिखर धवन ‘मैन ऑफ द सीरीज’ का अवार्ड दिया गया।

ये भी पढ़ें :-  शर्मनाक व्यवहार: पाक को धूल चटाने वाली क्रिकेटर एकता बिष्ट को मंच से धक्के मारकर उतारा गया

इंडियन टीम के कप्तान विराट कोहली की बतौर कप्तान विदेश में ये 7वीं जीत है, और इस जीत के साथ ही विदेश में सबसे ज्यादा टेस्ट जीतने के मामले में उन्होंने एम.एस धोनी को पीछे छोड़ दिया है। क्यों कि धोनी ने अपनी कप्तानी में टीम इंडिया को विदेश में 30 में से 6 मैचों में जीत दिलाई थी। जबकि विराट कोहली अब विदेश में भारत के दूसरे सबसे सफल कप्तान बन गए हैं। जहाँ इंडियन टीम ने उनकी कप्तानी में विदेश में 13 मैच खेले, जिस में से उनको 7 मैच में जीत मिली है। अगर इस मामले में बात करें तो विदेश में सबसे ज्यादा मैच जीतने का भारतीय रिकॉर्ड पूर्व कप्तान सौरव गांगुली के नाम है, जिनकी कप्तानी में भारत ने कुल 11 मैच जीते थे।

ये भी पढ़ें :-  सचिन और धोनी के बाद अब महिला तेज गेंदबाज झूलन गोस्‍वामी के जीवन पर भी बनेगी फिल्‍म

टीम इंडिया ने टेस्ट मैचों के इतिहास में पहली बार तीन मैच की सीरीज में क्लीन स्वीप किया है। अबतक भारत ने विदेश में केवल दो मैचों की सीरीज में क्लीन स्वीप किया है। जबकि क्रिकेट की इतिहास में ऐसा दूसरी बार हुआ है जब टीम इंडिया विदेशी धरती पर किसी सीरीज में तीन टेस्ट जीत गई हो। सबसे पहले पूर्व कप्तान मंसूर अली खां पटौदी के नेतृत्व में फरवरी-मार्च 1968 में न्यूजीलैंड को चार टेस्ट मैचों की सीरीज में 3-1 से हराया था। जहाँ इस सीरीज में टीम इंडिया ने अपना पहला टेस्ट जीतने के बाद क्राइस्टचर्च में दूसरा मैच हार गई थी। लेकिन, उसके बाद भारत ने लगातार दो टेस्ट जीते थे।

भारत की इस जीत के साथ ही टीम इंडिया श्रीलंका की धरती पर सबसे ज्यादा टेस्ट मैच जीतने वाली विदेशी टीम बन गई है। क्योंकि टीम इंडिया ने इससे पहले श्रीलंका में कुल 23 टेस्ट मैच खेले जिस में उसने 8 जीते थे। और वह पाकिस्तान की बराबरी पर था। लेकिन, अब भारत का आंकड़ा 9 हो गया है। लेकिन श्रीलंका के खिलाफ ओवरऑल (घर-बाहर) जीत के मामले में फिलहाल पाकिस्तान (51 मैच, 19 जीत) नंबर वन पोजिशन पर है। वहीं, भारतीय टीम (40 मैच, 19 जीत) के साथ बराबरी पर आ गई है।

ये भी पढ़ें :-  BCCI ने MS धोनी का नाम पद्म भूषण अवॉर्ड के लिए प्रस्तावित किया

इस मैच में बने ‘मैन ऑफ द मैच’ हार्दिक पंड्या ने भी श्रीलंका के खिलाफ कई रिकॉर्ड बनाए। जहाँ उन्होंने 108 रन की तूफानी पारी खेली। आठवें नंबर पर बैटिंग करने उतरे पंड्या ने सिर्फ 96 बालों में 8 चौके, 7 छक्के लगाए। उन्होंने मलिंडा पुष्पकुमारा के एक ही ओवर में 26 रन बनाए, जिसके साथ ही यह टेस्ट के एक ओवर में किसी भारतीय बैट्समैन के सबसे ज्यादा रनों का रिकॉर्ड है। और इसके साथ-साथ पंड्या ने अपने करियर की पहली टेस्ट सेन्चुरी में ऐसे रिकॉर्ड बनाए कि महान बल्लेबाज़ सहवाग से लेकर कपिल देव भी पीछे रह गए।

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>