Video:स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती महाराष्ट्र में साईं बाबा की पूजा करने से पड़ रहा है सूखा

Apr 11, 2016

द्वारिका-शारदापीठ के शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती ने महाराष्ट्र में आए भीषण सूखे को साईं पूजा से जोड़ दिया है.

उत्तराखंड के हरिद्वार में शंकराचार्य ने कहा है कि साईं पूजा की वजह से महाराष्ट्र में सूखा पड़ा है. कहाकि महाराष्ट्र के लोग साईं बाबा की पूजा करते हैं और यह सूखा उसी का नतीजा है.

एक दिन की यात्रा पर हरिद्वार आये शंकराचार्य ने कहा कि साईं एक फकीर थे और एक भगवान के तौर पर उनकी पूजा नहीं करनी चाहिए. उनकी पूजा पूरी तरह से अशुभ है.

उन्होंने कहा सूखे जैसी आपदा का प्रभाव अयोग्य लोगों की पूजा के कारण आता है. जहां के लोग अयोग्य लोगों की पूजा करते हैं वैसी जगहों पर ही सूखे, प्राकृतिक आपदा आती है और लोगों की मौत होती हैं. महाराष्ट्र का सूखा भी इसी का एक कारण है.

इस बार साईं के साथ-साथ उन्होंने दुनियाभर में पूजे जाने वाले शनि भगवान पर भी टिप्पणी कर दी है और महिलाओं के शनि की पूजा करने से रेप की घटनाएं बढ़ने का खतरा जता दिया है.

उन्होंने कहा कि शनि और साईं दोनों भगवन नहीं हैं और महाराष्ट्र में शनि और साई की पूजा होने के कारण ही अकाल की स्थिति पैदा हो गयी है. उन्होंने तो यहां तक कह दिया की महिलाओं के शनि की पूजा करने से साथ बलात्कार की घटनाएं बढ़ जाएंगी.

शंकराचार्य स्वरूपानंद ने कहा की महाराष्ट्र में साईं की पूजा बंद कर केवल भगवान गणेश की पूजा होनी चाहिए. उन्होंने कहा कि वहां पर लोग अपने ईष्ट देवताओं को भूल उन्हें साईं के चरणों में स्थान दे रहे हैं जिस कारण वहां अनिष्ट हो रहा है.

शनि पर निशाना साधते हुए शंकराचार्य ने कहा कि शनि की पूजा नहीं होती है. कहा कि उसके लिए ढकोट को तेल देने के बजाए जगह-जगह शनि के मंदिर बनाए जा रहे हैं और वहां पैसा चढ़ाया जा रहा है.

शंकराचार्य ने कहा कि महिलाएं यदि शनि की पूजा करेंगी तो बलात्कार की घटनाएं बढ़ेंगी. उन्होंने कहा कि महिलाओं को सुरक्षिता करना है तो नशा को बंद करना चाहिए पर ऐसा न करने और शनि की पूजा करने से तो रेप की घटनाएं और बढ़ जाएंगी.

गौरतलब है कि ऐसा पहली बार नहीं है जब शंकराचार्य ने साईं को लेकर ऐसे विवादित बयान दिए हों, वे पहले भी साईं पूजा को मान्यता देने का विरोध कर चुके हैं. साल 2014 में उन्होंने साईं पूजा का विरोध करने के लिए एक धर्म संसद का भी आयोजन किया था. इस धर्म संसद में सर्वसम्मति के साईं पूजा का बहिष्कार करने का ऐलान किया गया था.

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>