भाजपा विधायकों के साथ उत्तराखंड सरकार के बागी पहुंचे दिल्ली

Mar 19, 2016

मुश्किलों में घिरी उत्तराखंड सरकार के बागी विधायक देर रात बीजेपी के विधायकों के साथ गुड़गांव पहुंच गए हैं.

उत्तराखंड से भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के 26 विधायकों तथा कांग्रेस के नौ बागी विधायक शुक्रवार देर रात दिल्ली पहुंच गये और उनके शनिवार को भाजपा नेतृत्व से मिलने की संभावना है.

देहरादून में शुक्रवार को कांग्रेस के नौ विधायकों ने विधानसभा में अपनी पार्टी की सरकार के खिलाफ विद्रोह कर दिया था और बजट पर मत विभाजन की भाजपा विधायकों की मांग का समर्थन किया था, लेकिन विधानसभा अध्यक्ष ने उनकी मांग को नहीं माना और बजट ध्वनिमत से पारित घोषित कर दिया.

इसके बाद भाजपा के 26 और कांग्रेस के नौ बागी विधायकों ने एक साथ शुक्रवार रात राजभवन जाकर राज्यपाल के के पॉल से मुलाकात की थी और कहा था कि हरीश रावत सरकार अल्पमत में आ गयी है इसलिए उसे बर्खास्त कर दिया जाना चाहिए. ये सभी विधायक इसके तुरंत बाद दिल्ली के लिए रवाना हो गये थे और देर रात यहां पहुंचे. प्राप्त जानकारी के अनुसार इन सभी को गुड़गांव में ठहराया गया है.

राज्यपाल से मुलाकात के बाद कांग्रेस के बागी नेता एवं कृषि मंत्री हरक सिंह रावत ने कहा था कि रावत सरकार को तुरंत इस्तीफा दे देना चाहिए क्योंकि उनके पास बहुमत नहीं है. उन्होंने कहा कि बजट जनविरोधी होने के कारण उन्होंने इसका विरोध किया लेकिन विधानसभा अध्यक्ष ने मत विभाजन की उनकी मांग नहीं मानी.

 

बागियों में शामिल राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री विजय बहुगुणा ने भी कहा कि इस सरकार को अब सत्ता में बने रहने का कोई अधिकार नहीं है और उन्होंने राज्यपाल को अपनी राय बता दी है. जरूरत पड़ी तो नयी दिल्ली में सभी विधायक राष्ट्रपति से मिलकर अपनी बात रखेंगे.

दूसरी ओर मुख्यमंत्री हरीश रावत ने दावा किया है कि उनके पास पर्याप्त बहुमत है और सरकार को कोई खतरा नहीं है. विपक्ष को यदि ऐसा लगता है कि सरकार के पास बहुमत नहीं है तो वह विधानसभा में उनके खिलाफ अविास प्रस्ताव लाये. वहां हम अपना बहुमत साबित कर देंगे.

इस बीच यहां भाजपा की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की शनिवार को बैठक हो रही है. दो दिवसीय यह बैठक पहले से तय थी. इसमें उत्तराखंड में ताजा राजनीतिक गतिविधियों को देखते हुए वहां की स्थिति पर भी चर्चा हो सकती है.

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>