उत्तर प्रदेश: मथुरा हिंसा की सीबीआई जांच के आदेश से इनकार

Jun 07, 2016

सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को उत्तर प्रदेश के मथुरा में हिंसा की सीबीआई जांच के आदेश से इनकार किया है.

मामले पर सोमवार को सुप्रीम कोर्ट ने उस याचिका पर मंगलवार को सुनवाई करने पर सहमति जताई थी जिसमें मथुरा में हुई हिंसा की घटना की सीबीआई जांच की सिफारिश करने का समाजवादी पार्टी सरकार को निर्देश देने की मांग की गई थी.

सुप्रीम कोर्ट ने याचिकाकर्ता को कहा कि वह इस मामले को लेकर इलाहाबाद हाईकोर्ट जाएं. कोर्ट ने सुनवाई के दौरान मामले पर टिप्पणी की और कहा कि क्या आपकी याचिका में यह कहा गया है कि राज्य सरकार का कोई भी ऐसा एक्शन है जिससे यह ज्ञात हो कि उन्होंने कोई कार्रवाई नहीं की.

ये भी पढ़ें :-  मुख्तार अंसारी की अपील खारिज, जेल मे रहते हुए लड़ेंगे चुनाव

सुप्रीम कोर्ट में याचिकाकर्ता ने कहा कि ये मामला राज्य का विषय है, केंद्र सरकार अपनी ओर से सीबीआई जांच के आदेश देने पर विचार नहीं कर सकती है.

गौरतलब है कि सोमवार को न्यायमूर्ति पी सी घोष और न्यायमूर्ति अमिताभ रॉय की अवकाशकालीन पीठ ने मामले को मंगलवार के लिए सूचीबद्ध किया था जब अविलंब सुनवाई के लिए इसका उल्लेख किया गया.

यह याचिका दिल्ली भाजपा प्रवक्ता अश्विनी उपाध्याय ने दायर की थी. उपाध्याय की तरफ से पेश अधिवक्ता कामिनी जायसवाल ने कहा था कि घटनास्थल पर मौजूद साक्ष्यों को हिंसा के बाद नष्ट किया जा रहा है. मीडिया रिपोर्ट के अनुसार 200 से अधिक वाहनों को जला दिया गया है.

ये भी पढ़ें :-  एसवाईएल खुदाई पर अड़े इनेलो नेता-कार्यकर्ता, सीमा सील

उपाध्याय ने अपनी याचिका में कहा था कि अदालत मामले का स्वत: संज्ञान ले सकती है और सीबीआई जांच का निर्देश दे सकती है, ‘‘क्योंकि सच्चाई का पता लगाने, घटना की असली वजह और कार्यपालिका, विधायिका और उस समूह के बीच गठजोड का पता लगाने के लिए यह जरुरी है.’

उन्होंने राज्य और केंद्र सरकार को इस तरह के मामलों में मरने वाले लोगों के परिजनों को मुआवजा देने के लिए एकसमान नीति बनाने का निर्देश देने की मांग की.

याचिका में यह भी दावा किया गया था कि केंद्र सरकार घटना की सीबीआई जांच कराने को तैयार है लेकिन उत्तर प्रदेश सरकार सीबीआई जांच की सिफारिश करने को लेकर उत्साह नहीं दिखा रही है.

ये भी पढ़ें :-  ये तो तानाशाह प्रधानमंत्री है, देश के टुकड़े-टुकड़े कर तबाह कर देंगे- लालू प्रसाद

मथुरा के पुलिस अधीक्षक मुकुल द्विवेदी और एसएचओ संतोष कुमार यादव समेत 29 लोगों की गत दो जून को पुलिस और अतिक्रमणकारियों के बीच हुए संघर्ष में मौत हुई थी. यह घटना तब हुई थी जब पुलिस इलाहाबाद उच्च न्यायालय के आदेश पर जवाहर बाग से अवैध अतिक्रमणकारियों को हटाने के लिए गई थी.

अन्य ख़बरों से लगातार अपडेट रहने के लिए हमारे Facebook पेज को Join करे

 

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>
error: 24hindinews.com\'s content is copyright protected
error: 24hindinews.com\'s content is copyright protected