दो वीडियो के साथ हुई छेड़छाड़-दिल्ली सरकार ने कराई जांच

Mar 02, 2016

नई दिल्ली. जेएनयू में 9 फरवरी को देश विरोधी नारेबाजी मामले में दो वीडियो के साथ छेड़छाड़ की बात सामने आई है। दिल्ली सरकार के ऑर्डर पर हैदराबाद की लैब में इसकी फोरेंसिक जांच की गई थी। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, दो वीडियो में जो शख्स दिखाई नहीं दे रहे, उनकी आवाज जोड़ी गई है। सात वीडियो भेजे थे जांच के लिए…

सूत्रों के मुताबिक, सात वीडियो जांच के लिए भेजे गए थे। इनमें से दो में हेराफेरी पाई गई है। जबकि बाकी पांच ठीक हैं।
जेएनयू में 9 फरवरी को संसद हमले के दोषी अफजल गुरु की बरसी पर प्रोग्राम हुआ था। इसमें देश विरोधी नारे लगे थे।
मामला गरमाया तो केजरीवाल सरकार ने इसकी मजिस्ट्रियल जांच के ऑर्डर दिए थे।
इस सिलसिले में जेएनयू स्डटूडेंट्स यूनियन के प्रेसिडेंट कन्हैया कुमार को देशद्रोह के आरोप में अरेस्ट किया गया था।

आज कन्हैया की जमानत पर सुनवाई
कन्हैया की जमानत अर्जी पर बुधवार को सुनवाई होगी।
इसी मामले में आरोपी उमर खालिद व अनिर्बान भट्टाचार्य को दिल्ली की एक कोर्ट ने मंगलवार को 14 दिन के लिए न्यायिक हिरासत में भेज दिया है।
क्या है जेएनयू विवाद?
जेएनयू में 9 फरवरी को लेफ्ट स्टूडेंट्स के ग्रुप्स ने संसद पर हमले के गुनहगार अफजल गुरु और जम्मू-कश्मीर लिबरेशन फ्रंट (जेकेएलएफ) के को-फाउंडर मकबूल बट की याद में एक प्रोग्राम ऑर्गनाइज किया था। इसे कल्चरल इवेंट बताया गया था।
जेएनयू में साबरमती हॉस्टल के सामने शाम 5 बजे उसी प्रोग्राम में कुछ लोगों ने देश विरोधी नारेबाजी की। इसके बाद लेफ्ट और एबीवीपी स्टूडेंट्स के बीच झड़प हुई।
10 फरवरी को नारेबाजी का वीडियो सामने आया। दिल्ली पुलिस ने 12 फरवरी को देशद्रोह का मुकदमा दर्ज किया।

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>