अमरीकी: फ़्लोरिडा के नाइट क्लब में गोलीबारी में अबतक 50 लोगो की मौत

Jun 13, 2016

अमरीकी राज्य फ़्लोरिडा के ऑरलैंडो शहर में एक नाइट क्लब में शनिवार को हुई गोलीबारी में मरने वालों की संख्या बढ़कर 50 हो गई है.

राष्ट्रपति बराक ओबामा ने गोलीबारी की इस घटना को “दर्जनों बेगुनाह लोगों का भीषण नरसंहार” करार दिया है. व्हाइट हाउस से जारी एक बयान में उन्होंने कहा कि शूटिंग की ये घटना चरमपंथ की कार्रवाई है, नफ़रत की कार्रवाई है. उन्होंने कहा कि अभी तक हत्यारे के मंसूबे के बारे में साफ़ तौर पर किसी नतीजे पर नहीं पहुंचा जा सका है.

शहर के मेयर बडी डायर ने बताया कि फ़्लोरिडा में इमरजेंसी लागू कर दी गई है.

ये गोलीबारी शहर में पुरूष समलैंगिकों के एक क्लब ‘पल्स’ में हुई.

ऑरलैंडो के मेयर के अनुसार गोलीबारी में 50 लोगों की मौत हुई है और 50 से ज़्यादा लोग अस्पताल में भर्ती कराए गए हैं.

पुलिस के मुताबिक हमलावर की नाइट क्लब के अंदर मौत हो गई है. पुलिस के अनुसार हमलावर के पास एक असॉल्ट राइफल और एक हैंडगन थी.

हमलावर ने कुछ लोगों को बंधक भी बना लिया था. पुलिस के मुताबिक हमलावर का नाम उमर मतीन है जो अमरीकी नागरिक है.

अमरीकी टीवी नेटवर्क एनबीसी न्यूज़ के मुताबिक़ मतीन ने गोलीबारी से पहले इमरजेंसी हेल्पलाइन को फ़ोन किया था और इस्लामिक स्टेट जुड़े होने की बात कही थी.

एफ़बीआई ने पुष्टि की है कि उमर मतीन ने हमले से पहले इमरजेंसी नंबर 919 पर कॉल किया था और इस्लामिक स्टेट नामक चरमपंथी संगठन के बारे में बात की थी.

एजेंसी ने ये भी कहा है कि पिछले तीन साल में एफ़बीआई ने संभावित चरमपंथी संपर्क को लेकर तीन बार मतीन का इंटरव्यू किया था.

एफ़बीआई एजेंट रोनाल्ड हॉपर ने कहा कि एजेंसी को पहली बार मतीन के बारे में साल 2013 में पता चला था जब उन्होंने अपने सहकर्मियों के ख़िलाफ़ भड़काई बयान दिया था और चरमपंथियों के साथ संबंध होने का दावा किया था.

उन्होंने बताया कि उसके बाद मामले की पूरी तहकीक़ात की गई थी लेकिन बाद में केस को बंद कर दिया गया था.

हाल के अमरीकी इतिहास में सामूहिक गोलीबारी की ये सबसे दर्दनाक घटना है. फ़्लोरिडा गवर्नर रिक स्कॉट ने कहा कि ये “साफ़तौर पर चरमपंथी कार्रवाई है”.

अधिकारियों का कहना है कि ये हत्याएं किसी विचारधारा से प्रेरित हो सकती हैं, हालांकि इस बात के अभी तक प्रमाण नहीं मिले हैं कि बंदूकधारी उमर मतीन किसी निश्चित समूह से जुड़ा हुआ था.

मतीन के पिता मीर सादिक़ ने एनबीसी न्यूज़ को बताया कि इस घटना का धर्म से कोई संबंध नहीं है, लेकिन हो सकता है कि मयामी में एक समलैंगिक जोड़े को चुंबन लेता देख हमलावर गुस्से में आ गया हो.

ऐसा माना जा रहा है कि संदिग्ध हमलावर फ़्लोरिडा के पोर्ट सेंट लुसी शहर का रहनेवाला एक अमरीकी नागरिक था और अफ़ग़ान मूल का था.

किसी चरमपंथी सूची में उसका नाम शामिल नहीं था, हालांकि एक आपराधिक मामले में उसकी जांच चल रही थी.

वॉशिंगटन डीसी में एलजीबीटी फ़ेस्टिवल का आख़िरी दिन है. इसलिए वहां सुरक्षा बढ़ा दी गई है.

फ्रांस के राष्ट्रपति फ़्रांस्वा ओलांद ने सामूहिक हत्याओं की निंदा की है और कहा है कि फ्रांस की सरकार और नागरिक इस मुश्किल घड़ी में अमरीकी अधिकारियों और लोगों के साथ खड़े हैं.

अमरीकी राष्ट्रपति पद के रिपब्लिकन उम्मीदवार डोनाल्ड ट्रंप ने कहा है कि संयुक्त राज्य अमरीका पर एक कट्टर इस्लामिक चरमपंथी ने हमला किया है. उन्होंने राष्ट्रपति बराक ओबामा और संभावित डेमोक्रैट उम्मीदवार हिलेरी क्लिंटन की ऐसा नहीं कहने के लिए निंदा की.

ट्रंप ने कहा कि अमरीका अब राजनीतिक रूप से सही होने की क़ीमत नहीं चुका सकता है.

उधर हिलेरी क्लिंटन ने कहा हमले के शिकार हुए लोगों और उनके परिजनों के प्रति उनकी पूरी संवेदना है. हालांकि उन्होंने हमलावर की मंशा के बारे में कोई क़यास नहीं लगाया.

वैटिकन के पोप फ़्रांसिस ने भी घटना पर गहरा दुख व्यक्त किया है और इसकी निंदा की है.

फ़्लोरिडा के ऑरलैंडो में ही शुक्रवार की रात शूटिंग की एक और घटना हुई थी जिसमें 22 साल की एक गायिका क्रिस्टीना ग्रिम्मी की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप कर सकते हैं. आप हमें और पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

अन्य ख़बरों से लगातार अपडेट रहने के लिए हमारे Facebook पेज को Join करे

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>