इस बात को समझें कि बच्चा क्यों कर रहा है गुस्सा

Mar 17, 2017
इस बात को समझें कि बच्चा क्यों कर रहा है गुस्सा

गुस्से को समझे– दुनिया में चाहे अच्छा हो या बुरा हर एक चीज के पीछे कारण होता है। इसी प्रकार जब बच्चों को बार-बार गुस्सा आता है तो उसके पीछे भी कोई ना कोई वजह जरूर होती है और यह वजह यह भी हो सकती है कि शायद उनको कुछ चाहिए परंतु वह उनकी डिमांड पूरी नहीं हो रही है। तो वह फर्स्टरेशन गुस्से के रूप में उभरकर सामने आती है तो उसके पीछे कारण जानने की कोशिश करें।

सहायक पक्ष– बच्चे तो बच्चे होते हैं उनको नहीं पता कि क्या सही है क्या गलत है इसलिए वह हमेशा ज्यादातर गलत चीजों के लिए गुस्सा करते हैं और जिद करते हैं। परंतु इस गुस्से को हमें रुकना चाहिए।पर इस गुस्से के पीछे बढ़ावा देने के लिए हमारे घर में नाना नानी दादा दादी सपोर्टिंग रोल निभाते हैं। जो कि बच्चों की हर जिद्दी ख्वाहिश पूरी करते हैं और हर बार उनके गुस्सा करने पर उनकी इच्छा पूरी कर देते हैं जिस वजह से बच्चों को गुस्सा करने की आदत हो जाती है।

हकीकत से करवाएं रूबरू– बच्चे ज्यादातर काल्पनिक दुनिया में ही जीते रहते हैं उन्होंने जो tv पर देखा उन्हें लगता है यह दुनिया असली दुनिया है। इसलिए वह बहुत जरूरी है कि आप बच्चों को सच्ची दुनिया से वाकिफ करवाये कि उनकी हर डिमांड पूरी नहीं कर सकते हैं हर चीज उनको नहीं मिल सकती है वरना वह गलत रास्ते पर चल जाएंगे।

पलट कर करें सवाल
बच्चों को हमेशा दो चीजों का तो पता होना चाहिए एक है जरूरत और एक है चाहत । जिस चीज की जरूरत है उन्हें वह चीज दिलवाने के बाद उसकी इंपोर्टेंस बताएं। परंतु अगर वह किसी चीज की जिद करते हैं अगर किसी मॉल में जाकर किसी खिलौने को खरीदने की जिद करते हैं तो उन से तुरंत वहां पूछेंगी तुम्हें यह खिलौना क्यों चाहिए और अभी ही क्यों चाहिए। उनको समझाएं कि यह आपकी चाहत किस हद तक ठीक है और किस हद तक गलत है।

चिड़चिड़ापन– ऐसा नहीं है कि बच्चों को हमेशा गुस्सा इसलिए आता है कि उनकी इच्छा पूरी नहीं हो रही है कई बार ऐसा होता है कि उनके साथ स्कूल में भेदभाव किया जाता है, उनकी नींद नहीं पूरी होती है या लोग उन्हें स्कूल में चिढ़ाते हैं। ऐसे कई कारण होते है। जिसमें बच्चे गुस्सा करते हैं तो आप उनकी भावनाओं को समझें कदर करें और प्यार से ने कंट्रोल कर के समझाएं।

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>