UK Referendum: ‘ब्रेक्ज़िट’ पर मतगणना जारी, शुरुआती नतीजों में कड़े मुकाबले का संकेत

Jun 24, 2016

ब्रिटेन में यूरोपीय संघ (ईयू) में बने रहने या अलग होने के मुद्दे पर हुए जनमत संग्रह के शुरुआती नतीजों में कड़े मुकाबले का संकेत मिला है.

अभी तक आए नतीजों में ब्रिटेन के लोग दो धड़ों में बंटे नजर आए है. ग्लास्गो और लंदन के कुछ हिस्सों के नतीजों से पहले ‘ब्रेक्जिट’ (ब्रिटेन के ईयू से बाहर होने) को बढ़त मिलती दिख रही है.

ब्रिटेन के यूरोपीय संघ में बने रहने या बाहर जाने को लेकर जनमत संग्रह में भारी तादाद में मतदान हुआ. इस ऐतिहासिक जनमत संग्रह के चलते ब्रिटेन का भविष्य एक अहम मोड़ पर खड़ा है.

इस ऐतिहासिक जनमत संग्रह से यह फैसला होगा कि ब्रिटेन 28 देशों के संगठन में रहेगा या इससे अलग हो जाएगा.

यूरोपीय संघ में बने रहने और इससे बाहर निकलने के समर्थन में चले दोनों तरह के अभियानों ने बड़ी संख्या में लोगों को लुभाया और करीब 4.6 करोड़ लोग इस प्रकिया में शामिल हुए, जिनमें 12 लाख भारतीय मूल के ब्रिटेन के नागरिक हैं. प्रधानमंत्री डेविड कैमरन ने यूरोपीय संघ में बने रहने की अपील की और ब्रिटेन के यूरोपीय संघ से बाहर निकलने (ब्रेक्जिट) से जुड़े अभियान के झूठ को खारिज किया.

ये भी पढ़ें :-  समुद्र को प्रदूषण मुक्त करने की मुहिम में 10 देश शामिल

प्रधानमंत्री ने अपनी पत्नी सामंता के साथ वेस्टमिंस्टर के एक मतदान केंद्र में मत दिया जो उनके डाउनिंग स्ट्रीट कार्यालय से कुछ ही गज की दूरी पर है जहां से वह इसके नतीजे पर नजर रखेंगे.

कैमरन ने बुधवार को बरमिंघम में समर्थकों से कहा, ‘तथ्य यह है कि यदि हम बाहर निकलते हैं तो हमारी अर्थव्यवस्था कमजोर होगी, जबकि यदि बने रहते हैं तो यह मजबूत होगी.’

गौरतलब है कि ब्रिटेन में यूरोपीय संघ की सदस्यता के प्रश्न पर कड़ी स्पर्धा के बीच बृहस्पतिवार को जनमत संग्रह हुआ. इस प्रश्न को लेकर पूरा देश दो भागों में बटा हुआ है और उनके बीच कड़ी प्रतिस्पर्धा है.

ये भी पढ़ें :-  किम की मौत पर उत्तर कोरिया के राजदूत तलब

जनमत संग्रह के परिणाम पर वित्तीय बाजार तथा पूरी दुनिया का नेतृत्व नजर रखे हुए हैं. जनमत संग्रह के लिए मतदान शुरू होने से पूर्व आई रायशुमारी में यूरोपीय संघ की सदस्यता के पक्षधर तथा विरोधियों के बीच कांटे की टक्कर है लेकिन थोड़ी बहुत सदस्यता बनाए रखने के पक्ष में देखी गई.

मतदान स्थानीय समय के अनुसार प्रात: छह बजे शुरू हुआ और यह रात नौ बजे तक चला. परिणाम की घोषणा 382 मतदान केंद्रों से रात एक बजे से तीन बजे के बीच की जाएगी.

प्रधानमंत्री डेविड कैमरन को अपनी कंजरवेटिव पार्टी के यूरोपीय संघ की सदस्यता के विरोधी सदस्यों तथा यूनाइटेड किंग्डम इंडिपेंडेट पार्टी के दबाव में कराना पड़ रहा है। इंडिपेंडेंट पार्टी ने यूरोपीय संघ से अलग होने का अभियान चलाया था. उसका कहना है कि यूरोपीय संघ से अलग होने से ब्रिटेन की अर्थव्यवस्था को लाभ होगा.

ये भी पढ़ें :-  बोको हराम की हिंसा से 70 लाख लोग जूझ रहे भुखमरी से

ब्रिटेन में इस जनमत संग्रह में रिकार्ड 4,64,99,537 लोगों ने हिस्सा लिया. चुनाव केंद्र सात बजे खुले और रात दस बजे बंद रहे. रायशुमारी से संकेत मिलता है कि बड़ी कंपनियां आम तौर पर यूरोपीय संघ में बने रहने के पक्ष में हैं जबकि छोटी कंपनियों के बीच राय अलग अलग है क्योंकि 45 प्रतिशत यूरोपीय संघ में बने रहने और 44 प्रतिशत इससे अलग होने के पक्ष में दिखे और 11 प्रतिशत ने कोई मत व्यक्त नहीं किया.

प्रधानमंत्री डेविड केमरन ने गुरूवार को आखिरी मौके पर ब्रिटेन के मतदाताओं से अपील की कि यूरोपीय संघ में बने रहने के लिए मत दें, दोनों दुनिया की सर्वश्रेष्ठ संभावनाओं का फायदे को न जाने दें.

अन्य ख़बरों से लगातार अपडेट रहने के लिए हमारे Facebook पेज को Join करे

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>
error: 24hindinews.com\'s content is copyright protected
error: 24hindinews.com\'s content is copyright protected