ट्रिपल तलाक धार्मिक मामला नहीं, यह लैंगिक संवदेनशीलता का मामला है: वेंकैया नायडू

Oct 26, 2016
ट्रिपल तलाक धार्मिक मामला नहीं, यह लैंगिक संवदेनशीलता का मामला है: वेंकैया नायडू

केंद्रीय सूचना और प्रसारण मंत्री एम वेंकैया नायडू ने कहा है कि यूनिफॉर्म सिविल कोड को पिछले दरवाजे और आम सहमति के बिना नहीं लाया जाएगा. उन्होंने इस आरोप से इनकार किया कि बीजेपी इस विवावादस्पद मुद्दे को आने वाले विधानसभा चुनावों खासकर उत्तर प्रदेश चुनाव के कारण हवा दे रही है.

वेंकैया नायडू ने कहा, ‘सरकार ट्रिपल तलाक को एक धार्मिक मामला नहीं मानती है. यह लैंगिक संवदेनशीलता का मामला है. यह कहना गलत है कि हम मुस्लिम मुद्दों में हस्तक्षेप कर रहे हैं.’ उन्होंने कहा, ‘उसी भारतीय संसद, उसकी राजनीतिक प्रणाली द्वारा हिंदू कोड बिल, तलाक कानून, दहेज निषेध, सती प्रथा निषेध कानून पारित किए. ये सब भारतीय संसद द्वारा किया गया.’ नायडू ने स्पष्ट किया कि यूनिफॉर्म सिविल कोड लाने के लिए व्यापक आम सहमति तैयार करना जरूरी है. उन्होंने कहा कि इसके लिए ट्रिपल तलाक कहने के मुद्दे को उठाने के आरोप गलत हैं.

ये भी पढ़ें :-  उप्र चुनाव : चौथे चरण का प्रचार थमा, मतदान 23 फरवरी को

अन्य ख़बरों से लगातार अपडेट रहने के लिए हमारे Facebook पेज को Join करे

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>
error: 24hindinews.com\'s content is copyright protected
error: 24hindinews.com\'s content is copyright protected