ट्रिपल तलाक मुद्दा: सभी पर्सनल लॉ में हैं सुधार की जरूरत, लेकिन किसी एक समुदाय को निशान बनाना गलत: सीताराम येचुरी

Oct 19, 2016
ट्रिपल तलाक मुद्दा: सभी पर्सनल लॉ में हैं सुधार की जरूरत, लेकिन किसी एक समुदाय को निशान बनाना गलत: सीताराम येचुरी

देश में तीन तलाक के मसले पर जहा चारो तरफ आलोचना हो रही है वही सरकार को वामदलों का इस मुद्दें पर साथ मिल गया हैं हालांकि समान नागरिक संहिता के मुद्दें पर वामदलों ने सरकार की आलोचना की हैं। माकपा ने दूसरे देशो का हवाला देते हुते कहा जब मुस्लिम देशों में तीन तलाक के प्रावधान की अनुमति नहीं है तो फिर भारत में क्यों नहीं परिवर्तन होना चाहिए। हालांकि माकपा ने सरकार को आगाह भी कर दिया कि समान नागरिक संहिता की ओर कदम न बढ़ाए।

माकपा ने आगे कहा, समान नागरिक संहिता की ओर कदम बढ़ाना महिलाओं के लिए नुकसानदायक है। क्योंकि समानता बराबरी की गारंटी नहीं है. केंद्र सरकार की मंशा से ऐसा लगता है कि उनकी इच्छा महिलाओं की बराबरी सुनिश्चित करने की नहीं, बल्कि अल्पसंख्यकों खासकर मुसलमान समुदाय को निशाने पर लेना है। हिंदू महिलाओं के लिए पर्सनल लॉ में पहले ही सुधार कर लिया गया है, यह दर्शाता है कि उनकी दिलचस्पी महिलाओं की समानता सुनिश्चित करने में नहीं, बल्कि अल्पसंख्यक समुदायों खासकर मुसलमानों को निशाना बनाने में है।

ये भी पढ़ें :-  कुछ ही घंटे में एक ही जगह पर दो बार पटरी से उतरी ट्रेन, कोई हताहत नहीं

अन्य ख़बरों से लगातार अपडेट रहने के लिए हमारे Facebook पेज को Join करे

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>