तोक्यो, तूफान के कारण, 400 से ज्यादा विमानों की उड़ानें बंद

Aug 22, 2016
तोक्यो, तूफान के कारण, 400 से ज्यादा विमानों की उड़ानें बंद

एक शक्तिशाली तूफान के तोक्यो के करीब पहुंचने के साथ ही जोरदार बारिश होने और तेज हवाएं चलने के कारण 400 से ज्यादा विमान उड़ान नहीं भर सके.

अधिकारियों ने भारी बारिश के कारण भूस्खलन और बाढ़ आने की चेतावनी दी है.

जापान की मौसम विज्ञान एजेंसी ने बताया कि शक्तिशाली तूफान मिनडुले दोपहर करीब 12:30 बजे यहां से दक्षिणपूर्वी तोक्यो से करीब 80 किमी दूर ताटेयामा शहर पहुंच गया.

एजेंसी ने बताया कि दोपहर तक यह तूफान 180 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से बढ़ रहा था, जबकि आज सुबह उत्तर की ओर बढ़ते समय तूफान की रफ्तार करीब 20 किमी प्रति घंटा थी. हालांकि तूफान से किसी बड़े नुकसान अथवा किसी के हताहत होने की खबर नहीं है.

ये भी पढ़ें :-  इस महिला सांसद ने की महिलाओं से की अपील कहा- पति जब तक वोटर आईडी न दिखाए मत करने देना सेक्स

मौसम विज्ञान एजेंसी ने नागरिकों से कहा, ‘तोक्यो में तूफान के कारण भूस्खलन का खतरा है, निचल इलाकों में बाढ़ आने का खतरा है, नदियों का जलस्तर तेजी से बढ़ रहा है, तेज हवाएं चलने और ऊंची लहरें उठने की आशंका है, इसलिए सतर्क रहें.’

 

उन्होंने बताया कि ग्रेटर तोक्यो इलाके में जोरदार बारिश से नदियों में उफान आ गया. टीवी फुटेज में दिखाया गया है कि बाढ़ का पानी उफनकर बाहर आने के करीब है, लेकिन अभी वह नियंत्रित है.

जापान के राष्ट्रीय प्रसारणकर्ता ने बताया कि तूफान के चलते पूरे जापान में कुल 425 उड़ानें रद्द कर दी गई हैं. इनमें से ज्यादातर उड़ानें तोक्यो के हनेडा हवाईअड्डे की हैं.

ये भी पढ़ें :-  रोहिंग्या मुद्दे पर OIC की आपातकालीन बैठक, ईरान ने कहा – इस्लामिक वर्ल्ड मुसलमानों का क़त्ल बर्दाश्त नहीं करेगा

जापान एयरलाइन ने एएफपी को बताया कि उसने 185 घरेलू उड़ानें रद्द की हैं. उड़ानें रद्द होने से 33,692 यात्री प्रभावित हुये हैं, जबकि ऑल निप्पोन एयरवेज ने कुल 112 घरेलू उड़ाने रद्द की हैं, जिससे 26,500 यात्री प्रभावित हुये हैं.

अन्य ख़बरों से लगातार अपडेट रहने के लिए हमारे Facebook पेज को Join करे

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>
error: 24hindinews.com\'s content is copyright protected
error: 24hindinews.com\'s content is copyright protected