इस्‍लाम में एक बार में तीन तलाक की कोई संकल्‍पना नहीं: नजमा हेपतुल्ला

Oct 15, 2016
इस्‍लाम में एक बार में तीन तलाक की कोई संकल्‍पना नहीं: नजमा हेपतुल्ला

मणिपुर की राज्यपाल नजमा हेपतुल्ला ने कहा है तीन बार तलाक बोल कर शादी तोड़ना संकल्‍पना नहीं है। केंद्र सरकार द्वारा सुप्रीम कोर्ट से इस परंपरा को खत्म करने का अनुरोध करने के मामले में नजमा ने कोई टिप्‍पणी नहीं की। मैं सकारात्मक या नकारात्मक जवाब दे सकूं कि मैं केंद्र के रुख से सहमत हूं या नहीं। मैं इस मुद्दे पर सिर्फ अपने विचार और जो मैं महसूस कर रही हूं उसे ही बता रही हूं। हेपतुल्ला ने कहा कि लोगों को इस बारे में सोचना चाहिए और इस्लाम के नाम पर किया जाने वाला कोई भी अन्याय सही नहीं है।

उन्होंने कहा कि कुरान और पैगंबर मुहम्मद ने कहा है कि जिन्होंने इंसान के साथ बुरा किया है वे ठीक से धर्म का पालन नहीं कर रहे हैं। जो इस्लाम का गलत इस्तेमाल करके महिलाओं से समान बर्ताव नहीं कर रहे हैं, वे गलत हैं। मैं जो कहती हूं उसमें यकीन रखती हूं। नजमा ने कहा कि एक साथ ‘तीन बार तलाक’ कह कर तलाक नहीं दिया जा सकता। इसके लिए तीन महीनों में तीन मौकों पर ऐसा किया जाता है। मध्यस्थता की प्रक्रिया का पालन करना होता है। उसके बाद ही तलाक होता है। जिस तरह से वे इसकी व्याख्या कर रहे हैं वह इस्लामी नहीं है और सही नहीं है।

अन्य ख़बरों से लगातार अपडेट रहने के लिए हमारे Facebook पेज को Join करे

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>