पाकिस्तान की ओर से जारी किए गए वीडियो को बताया फर्जी: किरण रिजिजू

Mar 30, 2016

पाकिस्तान की ओर से जारी किए गए कथित भारतीय जासूस के वीडियो को भारत सरकार ने खारिज कर दिया है.

वीडियो में कुलभूषण जाधव नाम के शख्स को भारतीय जासूस बताते हुए पाकिस्तान ने आरोप लगाए थे. गृह राज्य मंत्री किरण रिजिजू ने पाकिस्तान की ओर से जारी किए गए वीडियो को फर्जी बताया है.

एक जासूस को लेकर भारत और पाकिस्तान के बीच वाक युद्ध छिड़ गया है. मंगलवार को दोनों देशों के बीच तब मामला और गर्म हो गया जब पाकिस्तानी सेना ने गिरफ्तार किए गए कथित भारतीय नौसेना के एक पूर्व अधिकारी का एक वीडियो जारी किया जिसमें उन्होंने अपने देश के इशारे पर बलूचिस्तान में आतंकी गतिविधियों में शामिल रहने का कथित ‘इकबालिया बयान’ दिया है.

भारत ने इस आरोप को सिरे से खारिज करते हुए इसे बदले की भावना करार दिया.

इस मामले को लेकर राज्य मंत्री किरण रिजिजू ने पाकिस्तान को खरी-खोटी सुनाई. उन्होंने कहा कि पाकिस्तान की एक ही समस्या है वह हमेशा कोई नई कहानी गढ़ता है और भारत को बदनाम करने की कोशिश करता है.

रिजिजू ने इस वीडियो को फेक और छेड़छाड़ युक्त वीडियो करार दिया है. उन्होंने कहा कि इस वीडियो के माध्‍यम से पाकिस्तान विश्‍व पटल पर भारत को बदनाम करने की कोशिश कर रहा है लेकिन इससे भारत की छवि को नुकसान नहीं पहुंच सकता है. यह राष्‍ट्रीय सुरक्षा का मामला है इसे राजनीतिक रंग नहीं देना चाहिए.

इससे पहले भारत ने पाकिस्तान के आरोप को खारिज कर दिया किया और आरोप लगाया कि हो सकता है कि उन्हें ईरान से ‘अपहृत’ कर लिया गया हो. भारत ने साथ ही पाकिस्तान से भारतीय नागरिक को दूतावास तक पहुंच मुहैया कराने की मांग की है.

पाकिस्तानी सेना के इंटर सर्विसेज पब्लिक रिलेशंस (आईएसपीआर) प्रमुख लेफ्टिनेंट जनरल असीम बाजवा और संघीय सूचना मंत्री परवेज राशिद ने वीडियो जारी करने के लिए इस्लामाबाद में एक संवाददाता सम्मेलन किया.

यह वीडियो पाकिस्तान के सूचना प्रसारण मंत्री परवेज रशीद और आर्मी प्रवक्ता लेफ्टिनेंट जनरल आसिम सलीम बाजवा की संयुक्त प्रेस कॉन्फ्रेंस में जारी किया गया था.

किरण रिजिजू ने कहा कि पाकिस्तान के साथ सबसे बड़ी समस्या ये है कि वह पहले कहानियां गढ़ता है और फिर उन पर शोर मचाता है. रिजिजू ने कहा, ‘पाकिस्तान ने एक मनगढ़ंत कहानी बनाई है और उसे साबित करने के लिए फर्जी वीडियो भी बना लिया.’

उन्होंने कहा कि कुलभूषण यादव ने अशांत बलूचिस्तान प्रांत में ‘संकट पैदा करने’ के लिए भारतीय गुप्तचर एजेंसी ‘रॉ ‘के लिए काम करने की बात ‘‘स्वीकार’ की है. यादव को हाल ही में पाकिस्तान में गिरफ्तार किया गया था और पाकिस्तान ने उन्हें भारतीय नौसेना का अधिकारी बताया है. हालांकि भारत सरकार ने इस दावे को खारिज करते हुए कहा कि नौसेना से समय पूर्व सेवानिवृत्ति लेने के बाद से उनका सरकार से कोई सम्पर्क नहीं है. यद्यपि बाजवा ने दावा किया कि यादव अब भी सेवारत अधिकारी हैं जिन्हें 2022 में सेवानिवृत्त होना है.

 

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>