आतंकवाद फैलाने के लिए धर्म का इस्तेमाल ‘राजद्रोह’ : कादरी

Mar 21, 2016

पाकिस्तान से अंतरराष्ट्रीय सूफी फोरम में शिरकत करने आए धर्मगुरु मोहम्मद ताहिर-उल-कादरी ने कहा कि आतंकवाद फैलाने के लिए धर्म का इस्तेमाल ‘राजद्रोह’ माना जाना चाहिए.

उन्होंने ने कहा कि भारत तथा पाकिस्तान को धार्मिक कट्टरता एवं चरमपंथ के विस्तार को रोकने के लिए कठोर कार्रवाई करनी चाहिए. कादरी ने सोमवार को कहा कि भारत और पाकिस्तान को धार्मिक कट्टरता की काट करने वाले पाठ्यक्रम स्कूलों, कालेजों, यूनिवर्सिटियों, मदरसों और धार्मिक संस्थाओं में शुरू करना चाहिए ताकि गलत तत्व युवकों को धर्म के नाम पर उन्हें हथियार उठाने तथा गलत काम करने के लिए प्रेरित नहीं कर सकें.

कादरी ने कहा कि आतंकवाद फैलाने के लिए धर्म का दुरुपयोग करने वाले आतंकवादी संगठनों से पूरी कठोरता से निबटा जाना चाहिए. उन्हें कभी बख्शा नहीं जाना चाहिए. कादरी ने कहा, यह एक आपराधिक कृत्य है. अगर जैश-ए-मोहम्मद, लश्कर-ए-तैयबा, अलकायदा, आईएसआईएस या कोई हिंदू संगठन आतंकवादी हरकत करने के लिए धर्म का उपयोग करता है, तो कठोर कार्रवाई की जानी चाहिए.

उन्होंने कहा कि भारत और पाकिस्तान के लिए सबसे बड़ा खतरा आतंकवाद है और यह वक्त का तकाजा है कि आतंकवादियों से और धर्म के नाम पर गड़बड़ी करनने एवं हिंसा करने वालों से प्रभावी तौर पर निबटा जाए.  सईद मोहम्मद असरफ

कादरी ने कहा, जहां भी आतंकवाद है, जहां भी जड़ें हैं, जहां भी समूह हैं, सबको इसका पता है. भारत और पाकिस्तान दोनों को साझा कार्रवाई करनी चाहिए. जब तक आतंकवाद खत्म नहीं होगा, क्षेत्र विकास से वंचित रहेगा. पाकिस्तानी धर्मगुरु ने भारत और पाकिस्तान के बीच संवाद एवं वार्ता की जोरदार वकालत करते हुए कहा कि दोनों ही देशों को फैसला करना चाहिए कि क्या वे दुश्मनी को सात दशक जारी रखना चाहते हैं, या फिर शांति, आर्थिक वृद्धि और विकास की राह पसंद करते हैं.
उन्होंने कहा, यह जीने का तरीका नहीं है. दोनों देशों को एहसास करना चाहिए कि तकरीबन 70 साल गुजर गए. उन्हें फैसला करना चाहिए कि क्या वे शात दुश्मन की तरह जीना चाहेंगे या फिर वे दोस्ताना पड़ोसी बनेंगे. अगर वे यह बुनियादी बिंदु तय करते हैं सिर्फ तभी अच्छे रिश्तों का एक नया अध्याय शुरू हो सकता है. कादरी ने कहा कि युवकों को चरमपंथ में दीक्षित किए जाने से निबटना आतंकवाद और चरमपंथ खत्म करने की कुंजी है.

 

 

 

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>