सर्वे में हुआ खुलासा: अगर आप भी मोबाइल जेब में रखते हैं तो हो जाएं सतर्क, जा सकती है आपकी जान

Jan 11, 2017
सर्वे में हुआ खुलासा: अगर आप भी मोबाइल जेब में रखते हैं तो हो जाएं सतर्क, जा सकती है आपकी जान

स्मार्टफोन आज कल दुनिया की सबसे ज्यादा जरुरत बन गया है। चाहे मूवी देखना हो, इंटरनेट पर कोई भी जानकारी लेनी हो या फिर अपने दोस्तों के साथ विडियो काल करना हो। स्मार्टफोन आज हर घर की एक अहम् जरुरत बन गया है। आज कल ऐसी आदत हो गयी है कि मोबाइल खो जाने पर लोग डिप्रेशन का शिकार होने लगे है और अपने फोन के बिना जीने की कल्पना ही छोड़ देते है। मोबाइल को लेकर इस बढ़ती सनक ने कई और खतरनाक चीजों को भी जन्म दिया है। अब डॉ. देवरा डेविस की नई रिसर्च में भी कई चौंकाने वाली चीजें सामने आई हैं। कई लोगों की तरह ही डॉ. डेविस को भी लगता था कि मोबाइल फोन रेडिएशन उतने खतरनाक नहीं है जितना मीडिया में उसे बढ़ा चढ़ाकर दिखाते है। लेकिन इस पूरे रिसर्च के दौरान डॉ. डेविस को अहसास हुआ कि न केवल मोबाइल की रेडिएशंस हानिकारक है बल्कि आपके स्वास्थ्य के लिए ये बेहद ही खतरनाक है और इस बात को साबित करने के लिए उनके पास अब खुद की रिसर्च भी शामिल हैं।

डॉ. देवरा डेविस ने उस केस की मदद से लोगों को जागरूक करने की भी कोशिश की है। पर्यावरण हेल्थ ट्रस्ट न्यूजलैटर के मई अंक में एक महिला जो एक स्वस्थ लाइफस्टाइल जीने में यकीन करती थी। लेकिन अचानक वो ब्रैस्ट कैंसर का शिकार हो गई। बाद में सामने आया कि इस महिला को अपना फोन अपने ब्रैस्ट में रखने की आदत थी। हालांकि महिला के डॉक्टर ये साबित नहीं कर पाए कि मोबाइल की रेडिएशन की वजह से ही ऐसा हुआ है। ये बात जान लेनी चाहिए कि अपने फोन को अपनी बॉडी से छह इंच के दायरे से दूर रखा जाए। खास बात यह है कि मोबाइल फोन रेडिएशन से हमारे शरीर के कुछ हिस्सों में कैंसर होने की संभावना बाकी हिस्सों के मुकाबले ज्यादा होती है।

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>