सुप्रीम कोर्ट ने न्यायमूर्ति कर्णन के मानसिक स्वास्थ्य की जांच के दिए आदेश

May 01, 2017
सुप्रीम कोर्ट ने न्यायमूर्ति कर्णन के मानसिक स्वास्थ्य की जांच के दिए आदेश

सर्वोच्च न्यायालय ने सोमवार को कलकत्ता उच्च न्यायालय के न्यायाधीश न्यायमूर्ति सी.एस. कर्णन के मानसिक स्वास्थ्य की जांच के आदेश दिए। साथ ही यह आदेश भी दिया कि कोई भी प्राधिकरण न्यायमूर्ति कर्णन द्वारा जारी किए गए आदेशों पर संज्ञान न ले। सर्वोच्च न्यायालय के प्रधान न्यायाधीश न्यायमूर्ति जगदीश सिंह खेहर की अध्यक्षता वाली सात न्यायाधीशों की पीठ ने एक मेडिकल बोर्ड गठित करने का आदेश दिया और कहा कि यह बोर्ड चार मई को न्यायमूर्ति कर्णन के मानसिक स्वास्थ्य की जांच करे।

जांच की रिपोर्ट मामले की अगली सुनवाई नौ मई को होने से पहले आठ मई को सौंपने का निर्देश दिया गया है।

शीर्ष अदालत ने पश्चिम बंगाल के पुलिस महानिदेशक को पुलिस कर्मियों की एक टीम गठित करने का भी आदेश दिया है, जो मेडिकल जांच के दौरान मेडिकल बोर्ड की मदद करेगी।

अदालत ने साथ ही निर्देश दिया है कि इस बीच देश में कोई भी न्यायाधिकरण या प्राधिकरण न्यायमूर्ति कर्णन द्वारा जारी किए गए आदेशों पर संज्ञान न ले।

कर्णन पर न्यायपालिका का अपमान करने और सर्वोच्च न्यायालय के न्यायाधीशों पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाने का आरोप है।

न्यायाधीश कर्णन ने 13 अप्रैल को प्रधान न्यायाधीश न्यायमूर्ति खेहर समेत सर्वोच्च न्यायालय के सात न्यायाधीशों के खिलाफ अनुसूचित जाति एवं जनजाति (अत्याचार निवारण) अधिनियम के तहत ‘न्यायिक आदेश’ जारी किया था और उन्हें 28 अप्रैल को अपनी अदालत में हाजिर होने का आदेश दिया था।

कर्णन ने भारतीय न्यायपालिका में भ्रष्टाचार रोकने के लिए जनवरी में 20 ‘भ्रष्टाचारी न्यायाधीशों’ के खिलाफ जांच की मांग की थी, जिसके बाद फरवरी में शीर्ष न्यायालय के इन सातों न्यायाधीशों ने कर्णन के खिलाफ स्वत: संज्ञान लिया था।

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>