यहां भाई-बहन की आपस में होती है शादी अगर नही की तो लगेगा जुर्माना

Apr 12, 2016

भारत में आज भी ऐसी परंपराएं है जिसे जानकर आप चौक जाएंगे और आपको विश्वास भी नही होगा .लेकिन मै आपको एक ऐसी बात बताने जा रहा हूँ जो बिल्कुल सत्य है . ऐसी ही एक परंपरा छत्तीसगढ़ के आदिवासी समाज में भी है, जहां भाई-बहन आपस में शादी करते हैं। छत्तीसगढ़ में एक धुरवा आदिवासी समाज है, जहां पर यह परंपरा निभाई जाती है।

इसी के आधार पर यहां की परंपराएं भी अलग-अलग हैं। छत्तीसगढ़ में बस्तर की कांगेरघाटी के इर्द-गिर्द बसे धुरवा जाति के लोग बेटे-बेटियों की शादी में अग्नि को नहीं बल्कि पानी को साक्षी मानते हैं। इस समाज की सबसे अलग प्रथा है कि इनके यहां बहन की बेटी से मामा के बेटे (ममेरे फुफेरे भाई बहन) की शादी होती है। इसी के साथ अगर कोई ऐसा करने से मना करता है तो उस पर जुर्माना लगाया जाता है।

यहीं नहीं यहां बाल विवाह का भी चलन है। हालांकि, अब इस परंपरा को धीरे-धीरे खत्म करने के लिए कोशिशे शुरू हो गई हैं।समाज में शादियों के रजिस्ट्रेशन और शादी के लिए लड़की की न्यूनतम उम्र 18 और लड़के की 21 साल की होने की बात की जाने लगी है।

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>