इमोशनली नहीं प्रैक्टिकली हैंडल करें ऑफिस में शुरू हुए रिलेशनशिप को

Apr 05, 2016
लाइफस्टाइल डेस्कःमौजूदा वक्त में ज्यादातर युवा परिवार से दूर रहकर दूसरे शहर में नौकरी कर रहे हैं। ऐसे में सहकर्मियों के बीच में प्यार और अफेयर की खबरें ज्यादा सुनने में आने लगी हैं। कॉलेज लाइफ के बाद वर्किंग प्लेस ही ऐसी जगह है जहां प्यार के बाद रिश्ते ज्यादा बनते हैं।
ऑफिस में इस तरह के रिलेशनशिप्स युवाओं के कॅरिअरग्राफ के साथ ऑफिस के माहौल को भी प्रभावित करते हैं। ज्यादातर ऑफिसाें में सहकर्मियों के रोमांस, डेटिंग और प्रेम विवाह के बाद एक ही ऑफिस में काम करने को लेकर अलग-अलग एचआर पॉलिसी भी देखने को मिलती हैं। हालांकि यह भी सच है कि कोई भी एचआर पॉलिसी व्यक्ति के इमोशंस को कंट्रोल नहीं कर सकती और न ही उस पर किसी तरह का बैन लगा सकती है। लेकिन कई बार ऐसे रिश्ते गंभीर, सामाजिक सवाल खड़े करते हैं। ऑफिस कर्मियों के बीच आपसी रिश्ते कंपनी की आंतरिक नीतियों पर भी निर्भर करते हैं। कुछ ऑफिसों में तो नो ऑफिस रोमांस और डेटिंग पॉलिसी लागू की गई है। यदि ऐसा होता है तो दो में से किसी एक पार्टनर को जॉब छोड़नी होती है। नजदीकी रिश्तेदारों को भी यहां नहीं रखा जाता।
लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>