मस्ज़िद का मालिक कोई मौलाना नहीं बल्कि अल्लाह है, अयोध्या में मस्ज़िद थी और मस्ज़िद ही रहेगी: औवेसी

Aug 14, 2017
मस्ज़िद का मालिक कोई मौलाना नहीं बल्कि अल्लाह है, अयोध्या में मस्ज़िद थी और मस्ज़िद ही रहेगी: औवेसी

हाल ही शिया धर्मगुरु मौलान कल्बे सादिक ने अयोध्या जन्मभूमि विवाद को लेकर दिए अपने एक बयान में कहा था कि,अगर बाबरी मस्जिद पर फैसला मुस्लिमों के पक्ष में नहीं आता, तो उन्हें शांति से इसे स्वीकार करना चाहिए। वहीं, अगर फैसला मुस्लिमों के पक्ष में जाता है तो उन्हें खुशी-खुशी जमीन हिंदुओं को दे देनी चाहिए। उनके इस बयान ने हंगामा मचा दिया था। लेकिन अब उनके इस बयान पर एआईएमआईएम प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने उनको जवाब देते हुए अपने एक ट्वीट में लिखा कि, ‘मस्जिदें महज किसी मौलाना से कहने से नहीं दी जा सकतीं। इनका मालिक कोई मौलाना नहीं बल्कि अल्लाह है। एक बार बनी मस्जिद, हमेशा मस्जिद रहती है।’

ये भी पढ़ें :-  योगी सरकार बदलने जा रही है इलाहाबाद का नाम, अब जाना जाएगा एक नए नाम से

उत्तर प्रदेश के शिया केंद्रीय वक्फ बोर्ड ने सुप्रीम कोर्ट में कहा है कि, अयोध्या में विवादित स्थल से उचित दूर पर किसी मुस्लिम बाहुल्य वाले इलाके में मस्जिद बनाई जा सकती है।

इसी के जवाब में ओवैसी ने कहा, ‘मस्जिदों की देखरेख शिया, सुन्नी, बरेलवी, सूफी, देवबंदी, सलाफी, बोहरी कोई भी कर सकते हैं, लेकिन वह मालिक नहीं हैं। अल्लाह मस्जिदों का मालिक है।’ उन्होंने कहा, ‘मस्जिदें वे लोग बनाते हैं जो कयामत के दिन में भरोसा रखते हैं और केवल अल्लाह से डरते हैं। मस्जिद में नमाज पढ़ना मुसलमानों का फर्ज है, यह हिफाजत है।’

लाइक करें:-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>