नौ सदस्यीय समिति भगवंत मान मामले की जांच के लिए गठित

Jul 25, 2016

संसद की सुरक्षा को जोखिम में डालने वाले आप सांसद भगवंत मान के वीडियो की जांच के लिए लोकसभा अध्यक्ष ने नौ सदस्यीय समिति गठित की जो तीन अगस्त तक अपनी रिपोर्ट देगी.

आम आदमी पार्टी सांसद भगवंत मान द्वारा संसद भवन परिसर के संबंध में बनाए गए विवादास्पद वीडियो मामले की जांच के लिए लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन ने नौ सदस्यीय एक समिति का गठन करने का ऐलान किया जो तीन अगस्त तक अपनी रिपोर्ट देगी.
सोमवार सुबह सदन की कार्यवाही शुरू होते ही अध्यक्ष ने भाजपा सदस्य किरीट सोमैया की अध्यक्षता में नौ सदस्यीय समिति का गठन किए जाने की घोषणा की.
अध्यक्ष ने संसद भवन परिसर की सुरक्षा व्यवस्था की वीडियोग्राफी करने और वीडियो को सोशल मीडिया पर अपलोड करने को एक गंभीर मामला बताया. उन्होंने कहा कि इस विषय पर सदन के सभी राजनीतिक दलों के नेताओं से विचार विमर्श किया गया और सभी ने उनकी इस बात से सहमति जतायी कि इस मामले में कार्रवाई की जानी चाहिए.
उन्होंने कहा कि इस समिति को इस मामले के साथ ही भविष्य में ऐसी घटनाओं की पुनरावृत्ति रोकने के लिए उचित उपचारात्मक उपाय सुझाने को कहा गया है.
अध्यक्ष ने कहा कि इस मामले में आप सदस्य भगवंत मान को भी 26 जुलाई को सुबह साढ़े दस बजे तक जांच समिति के समक्ष अपना पक्ष रखने को कहा जाता है.
उन्होंने कहा कि समिति से उम्मीद की जाती है कि वह मामले की त्वरित जांच करे और तीन अगस्त तक अपनी रिपोर्ट दे. इस रिपोर्ट को विचार के लिए सदन के समक्ष रखा जाएगा.
महाजन ने निर्देश दिया कि भगवंत मान इस मामले में कोई फैसला होने तक सदन की कार्यवाही में भाग नहीं लें.
समिति के अन्य सदस्यों में आनंदराव अडसूल, भृतुहरि मेहताब, रत्ना डे, थोटा नरसिम्हन, के सी वेणुगोपाल और पी वेणुगोपाल भी शामिल हैं.
भगवंत मान द्वारा संसद भवन परिसर का वीडियो बनाने की भाजपा, कांग्रेस, बीजद, अन्नाद्रमुक, शिवसेना, अकाली दल समेत लगभग सभी दलों ने निंदा की और मान के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की थी.
लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन ने इसके पहले कहा था कि यह संसद की सुरक्षा से जुड़ा मुद्दा है. हम देख चुके हैं कि इसकी सुरक्षा के लिए 13 लोगों ने जान गंवायी थी. यह मामला गंभीर है. मैं कोई न कोई कार्रवाई करूंगी. मैं इस विषय को देखूंगी.
बीजद सदस्य भृतुहरि महताब ने संसद पर हुए आतंकवादी हमले का परोक्ष जिक्र करते हुए कहा कि दिसंबर 2001 की घटना हमें याद है जब 13 लोगों ने लोकतंत्र के इस मंदिर की सुरक्षा करते हुए जान गंवायी थी.
उल्लेखनीय है कि 12 मिनट के वीडियो में मान अपने वाहन से सुरक्षा बैरिकेड को पार करते और संसद में प्रवेश करते हुए कॉमेट्री करते दिखे. उन्होंने वीडियो में यह कहते हुए सुना गया है कि वह आज कुछ ऐसा दिखायेंगे जो पहले कभी नहीं देखा गया होगा.
मान की वीडियोग्राफी पर हंगामे के बीच राजद और सपा सदस्यों को सदन में आरक्षण के विषय को उठाते देखा गया. वे कुछ पर्चे लिये हुए थे जिस पर लिखा था, ‘‘आरक्षण की हकमारी नहीं चलेगी.’’

अन्य ख़बरों से लगातार अपडेट रहने के लिए हमारे Facebook पेज को Join करे

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>