नए फाइनेंशियल ईयर: आज से सभी सेवाएं महंगी बचत योजनाओं पर घटेगा ब्याज

Apr 01, 2016

वित्त वर्ष 2015-16 ने बृहस्पतिवार को विदाई ली और अब हमने नए फाइनेंशियल ईयर यानी वित्त वर्ष 2016-17 में प्रवेश कर लिया है.

नए फाइनेंशियल ईयर में हमारे कई नए बदलाव होने हैं कुछ बदलाव पहली अप्रैल से यानी शुक्रवार से प्रभावी हो जाएंगे जबकि कुछ बदलाव बाद में होंगे.

वाहन बीमा होगा महंगा : नए फाइनेंशियल ईयर में वाहन बीमा महंगा हो जाएगा. बीमा नियामक इरडा ने र्थड पार्टी इंश्योरेंस प्रीमियम में वृद्धि की अधिसूचना जारी की है और यह वृद्धि एक अप्रैल से प्रभावी हो जाएगी. इससे कार, दुपहिया और तिपहिया वाहनों के बीमा प्रीमियम में 500 रुपए से लेकर 2000 रुपए तक की बढ़ोतरी हो जाएगी.

सेवाएं होंगी महंगी : वित्त मंत्री अरुण जेटली द्वारा आम बजट में सर्विस टैक्स पर दशमलव 50 फीसद कृषि कल्याण सेस लगाने की घोषणा के बाद रेस्त्रां में खाना-पीना, होटल में ठहरना, मल्टीप्लेक्स में फिल्म देखना, विमान यात्रा करना, ज्वेलरी और विदेशी ब्रांड के कपड़े खरीदना महंगा हो जाएगा. इसके अलावा सैलून में बाल कटवाना, ब्यूटी पार्लर में सजना-संवरना और रेल टिकट कराना भी महंगा हो जाएगा. सर्विस टैक्स की दर 14.50 फीसद थी इसपर कृषि कल्याण सेस लगने से यह बढ़कर 15 फीसद हो जाएगी जिससे अन्य सभी सेवाएं भी महंगी होंगी.

कारें भी होंगी महंगी : आम बजट में सीएनजी कार पर एक फीसद इन्फ्रा सेस और डीजल कार पर दो फीसद इन्फ्रा सेस लगाया गया था. महंगी गाड़ियों और एसयूवी पर चार फीसद की दर से इंफ्रा सेस लगाने का ऐलान किया गया है. हालांकि कई कंपनियों ने बजट पेश होने के बाद वाहनों के दाम तुरंत बढ़ा दिए थे लेकिन अब नए फाइनेंशियल ईयर में यह सेस लगने से कार कंपनियां दामों में और इजाफा कर सकती हैं. हालांकि फिलहाल कंपनियों ने अभी ऐसे कोई संकेत नहीं दिए हैं.

ब्रांडेड कपड़े महंगे : एक अप्रैल से एक हजार रुपए से ज्यादा कीमत वाले ब्रांडेड कपड़े महंगे हो जाएंगे. वित्त मंत्री अरुण जेटली ने एक हजार रुपए से ज्यादा कीमत वाले ब्रांडेड कपड़ों पर एक्साइज डय़ूटी बढ़ाने का ऐलान किया था जिसका असर अब नए फाइनेंशियल ईयर में दिखेगा.

सिगरेट तंबाकू महंगा : तंबाकू पर एक्साइज डय़ूटी 10 से बढ़ाकर 15 फीसद किए जाने से सिगरेट, तंबाकू, पान मसाला और सिगार आदि महंगे हो जाएंगे. नए फाइनेंशियल ईयर में बजट प्रावधान एक अप्रैल से लागू माने जाते हैं इसलिए अप्रैल से ही इन वस्तुओं की कीमतें बढ़ेंगी.

बचत योजनाओं पर घटेगा ब्याज : लोक भविष्य निधि (पीपीएफ), किसान विकास पत्र (केवीपी) तथा वरिष्ठ नागरिक जमा जैसी लघु बचत योजनाओं पर एक अप्रैल से ब्याज दर में 1.3 प्रतिशत की कटौती लागू हो जाएगी. सरकार अब यह ब्याज तिमाही आधार पर तय करेगी. एक अप्रैल से 30 जून की अवधि के लिए पीपीएफ पर 8.1 प्रतिशत का ब्याज दिया जाएगा, जो अभी 8.7 प्रतिशत है. किसान विकास पत्र पर इसे 8.7 से घटाकर 7.8 प्रतिशत किया गया है.  वरिष्ठ नागरिक बचत योजना पर अब 9.3 के बजाए 8.6 प्रतिशत का ब्याज दिया जाएगा. सुकन्या समृद्धि खाते पर भी अब 9.2 के बजाए 8.6 प्रतिशत का ब्याज देय होगा.

दवाएं होंगी सस्ती : राष्ट्रीय फार्मा मूल्य प्राधिकरण (एनपीपीए) द्वारा मूल्य की सीमा तय किए जाने के बाद 103 दवा फामरूलेशन पैक के दाम नीचे आएंगे. इनमें एचआईवी-एड्स, जीवाणु संक्रमण, तपेदिक, उच्च रक्तचाप, मिर्गी, हेपाटाइटिस सी और मधुमेह के इलाज की दवाइयां शामिल हैं.

 

 

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>