मोदी सरकार ने सैनिकों की विकलांग पेंशन घटाने नहीं बढ़ाने का लिया है फैसला, पेंशन कम करने की खबर है झूठी

Oct 12, 2016
मोदी सरकार ने सैनिकों की विकलांग पेंशन घटाने नहीं बढ़ाने का लिया है फैसला, पेंशन कम करने की खबर है झूठी
 बिजनेस स्टैंडर्ड जैसे अखबार भी झूठी खबर प्रसारित करेंगे, यह उम्मीद नहीं थी। सर्जिकल स्ट्राइक पर मचे हंगामे के बीच सैनिकों की पेंशन घटाने की जब खबर उड़ी तो सोशल मीडिया पर खूब हंगामा मचा। जिस पर अब जाकर सरकार की ओर से सफाई जारी की गई है। सरकार ने कहा है कि यह खबर सरकार की छवि धूमिल करने के लिए प्रचारित की गई। सरकार ने सातवें वेतनमान के तहत धनराशि तक करते ही सैनिकों की विकलांग पेंशन को छुआ तक नहीं है। बल्कि उसे 14 से 30 प्रतिशत तक बढ़ाया जा रहा है। यह सरासर झूठ है।
कांग्रेस और आम आदमी पार्टी ने खूब फैलाई खबर
बिजनेस स्टैंडर्ड की ओर से विकलांग पेंशन घटाने की फर्जी खबर जारी हुई तो विरोधी दलों की मानोमुंहमागी मुराद पूरी हो गई। कांग्रेस और आम आदमी पार्टी सहित सभी विपक्षी दलों के आइटी सेल ने सोशल मीडिया पर कैंपेनिंग शुरू कर दी। सर्जिकल स्ट्राइक का मोदी ने दिया तोहफा जैसे शीर्षक से केंद्र सरकार के खिलाफ जमकर कैंपेनिंग चली।
सरकार ने क्या दी है सफाई
केंद्र सरकार ने  सैनिकों की विकलांग पेंशन से छेड़छाड़  की बात से इन्कार किया है। कहा है कि करीब 90 प्रतिशत सैनिकों को 14 से 30 प्रतिशत पेंशन बढ़ाने की तैयारी है।  इसमें सिपाही रैंक के जवानों को सातवें वेतनमान की सिफारिशों के तहत हर महीने करीब 9282 से 12000 रपये का फायदा होगा। इसके अलावा हवलदार को 10452 से 12000 और नायक रैंक के जवानों को 9680 रुपये से लेकर 12000  तक रपये का लाभ मिलेगा।
सातवें वेतनमान के तहत फैसले का जल्द जारी होगा ऑर्डर
केंद्र सरकार ने कहा है कि सातवें वेतनमान के तहत सैनिकों के विकलांग पेंशन को बढ़ाने की सिफारिशों स्वीकार कर ली गई हैं। इसका भारी तादाद में सैनिकों को लाभ मिलेगा। डिटेल्स के आधार पर जल्द ही सरकार इस बाबत अधिकृत आर्डर जारी करेगी।
2015 में इतने जवान हुए रिटायर
सेना के आंकड़े के मुताबिक 2015 में कुल 62311 जवान रिटायर हुए। जिसमें 60662 पीबीओआर यानी पर्सनल बिलो आफिसर रैंक  व जूनियर कमीशंड के थे जबकि 24035 नायक और हवलदार पद के 23124  जवान रहे।
क्या उड़ी थी फर्जी खबर
बिजनेस स्टैंडर्ड ने एक  शीर्ष सैन्य अफसर से कथित बातचीत के हवाले से एक रिपोर्ट जारी की थी। कहा था कि सर्जिकल स्ट्राइक के अलगे दिन 30 सितंबर को मोदी सरकार ने सैनिकों की विकलांग पेंशन घटाने का फैसला किया।  पहले युद्ध में घायल होकर 100 फीसदी विकलांग हो चुके कमांडोज को अब तक 45,200 रुपए की पेंशन नसीब थी, मगर अब18 हजार घटाकर 27,200 रुपए कर दिया गया । यही नहीं कहा गया था कि  10 साल तक सेना में रहने वाले जो मेजर 100 प्रतिशत विकलांग होकर रिटायर हुए हैं, उनकी पेंशन में 70 हजार की कटौती की गई है. 26 साल तक सेना में रहकर 100 फीसदी विकलांग होने वाले नायब सूबेदारों की पेंशन में 40 हजार रुपए की कटौती की गई है।
अन्य ख़बरों से लगातार अपडेट रहने के लिए हमारे Facebook पेज को Join करे
लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>