शिया वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष ने पीएम को लिखी चिट्ठी, बोले- ‘मदरसों में दी जाती है आतंकवाद की ट्रेनिंग’

Jan 10, 2018
शिया वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष ने पीएम को लिखी चिट्ठी, बोले- ‘मदरसों में दी जाती है आतंकवाद की ट्रेनिंग’

देश में चल रहे मदरसों पर एक बार फिर से सवाल उठा है, इस बार यूपी के शिया सेंट्रल वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष वसीम रिजवी ने मदरसों में दी जाने वाली शिक्षा को बंद कराने की मांग रखी है, उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को एक चिट्ठी भी लिखी है।

बता दे कि शिया सेंट्रल वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष वसीम रिजवी ने मदरसों के बारें में बात करते हुए बताया कि देश में चल रहे मदरसों में बच्चों को सहीं ज्ञान नहीं दिया जा रहा है। गलत विचारो से छात्रों का दिमाग कट्टरपंथ होता जा रहा है, जिससे वह आतंकबाद के रास्ते पर चले जातें है, जो भारतीय मुसलमानो के लिए अभिशाप है, मदरसो में दी जाने वालीं शिक्षा से मुस्लिम लगातार पिछड़ते जा रहे, जिससे उनकी आर्थिक स्थिति निराशाजनक हो रही है। मदरसो में दी जाने वालीं शिक्षा तथा उनकी डिग्रियां हर जगह मान नहीं होती है, खासकर उस क्षेत्र में जहाँ रोजगार है और वहां पर मदरसो की शिक्षा का कोई मान्य नहीं है।

रिजवी ने आगे बात करते हुए बताया कि देश में जितने भी मदरसे चल रहे है वह सब सऊदी अरब, बांग्लादेश और पाकिस्तान जैसे देशो से भेजी गयी जकात के पैसो से चल रहे है। आगे उन्होंने बताया कि कुछ आतंकवादी संगठन भी अवैध रूप से चल रहे मदरसों को फंडिंग कर रहे हैं, उन मदरसो की जांच होना चाहिए और जो मदरसे बोर्ड द्वारा रजिस्टर्ड नहीं हैं, उन्हें तुरंत बंद करवा देना चाहिए। वसीम रिजवी ने सभी मदरसो को सीबीएसई और आइसीएसई पाठ्यक्रम से जोड़ने की मांग रखी है।

आपकी जानकारी के लिए बता दे कि इस मामले में एआईएमआईएम के चीफ असदुद्दीन ओवैसी ने शिया सेंट्रल वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष वसीम रिजवी को बहुत बड़ा जोकर और मौकापरस्त इंसान कहा है। ओवैसी ने वसीम रिजवी के बारे में बात करते हुए कहा कि उन्होंने अपनी आत्मा को आरएसएस के हाथो बेच दिया है। उन्होंने वसीम रिजवी को चुनौती देते हुए कहा कि मै इस जोकर से पूछता हूँ वो साबित करे कि सुन्नी या शिया किसी भी मदरसे में गलत शिक्षा दी जाती है, अगर उनके पास मदरसो के बारे में कोई सबूत है तो वह उसे गृह मंत्री को दिखाए।

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>