शंकराचार्य स्वामी स्वरुपानंद का बड़ा बयान, बोले-‘भारत में पैदा होने वाला हर शख्स हिंदू नहीं है’

Dec 22, 2017
शंकराचार्य स्वामी स्वरुपानंद का बड़ा बयान, बोले-‘भारत में पैदा होने वाला हर शख्स हिंदू नहीं है’

देश के 4 बड़े धर्मगुरूओं में से एक द्वारका-शारदा पीठ और ज्योतिष्पीठ पीठ के शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती एक बार फिर अपने एक बड़े बयान को लेकर सुर्ख़ियों में हैं। उन्होंने अपने बयान में कहा कि ‘भारत में पैदा होने वाला हर शख्स हिंदू नहीं है।’ शंकराचार्य ने कहा कि ‘इस बात का कोई तर्क ही नहीं कि भारत में पैदा हुआ हर शख्स हिंदू है, क्योंकि इससे समाज का बुनियादी ढांचा खत्म हो जाता है।’

बता दें कि स्वरूपानंद जी के इस बयान को कुछ समय पहले आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत ने त्रिपुरा में एक रैली के दौरान भारत में रहने वाले सभी लोगों को हिंदू बताया था। शंकराचार्य का यह बयान आरएसएस चीफ के बयान का जवाब माना जा रहा है। कि शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती ने कहा है कि, ‘भारत में पैदा हुआ हर शख्स हिंदू है, इस मत के पीछे कोई तर्क नहीं है क्योंकि इस तरह की सोच से समाज की बुनियादी संरचना ही खत्म हो जाती है।’

स्वरूपानंद सरस्वती ने कहा कि ‘जैसे एक असली हिंदू की आस्था वेदों और शास्त्रों में होती है, वैसे ही मुस्लमानों की कुरान और ईसाईयों की बाइबिल में होती है।’ जब राम मंदिर पर शंकराचार्य से सवाल किया गया तो उन्होंने कहा कि, राजनैतिक दलों को इसका अधिकार नहीं है कि वो अयोध्या में राम मंदिर बनाएं। यह अधिकार शंकराचार्य और धर्माचार्यों का है। उन्होंने कहा कि, ‘सरकार भी देश में मंदिर नहीं बना सकती, क्योंकि भारत एक धर्म निरपेक्ष देश है।

गंगा और यमुना नदी के अस्तित्व पर बढ़ते खतरे के सवाल पर शंकराचार्य ने कहा कि सरकार को इन दोनों नदियों पर बने बांधों को बंद कर देना चाहिए, ताकि उनका प्राकृतिक बहाव बना रहे। चुनावों में ईवीएम की विश्वसनीयता पर उठे सवाल पर स्वरूपानंद सरस्वती ने कहा कि अगर ज्यादातर पार्टियां ईवीएम के इस्तेमाल पर राजी नहीं हैं तो इलेक्शन कमीशन को भी इस पर अटकना नहीं चाहिए।

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>