तानाशाह उत्तर कोरिया ने किया पांचवा परमाणु परीक्षण

Sep 09, 2016
तानाशाह उत्तर कोरिया ने किया पांचवा परमाणु परीक्षण
योनहाप के अनुसार ऐसा लग रहा है कि उत्तर कोरिया ने अपना पांचवा परमाणु परीक्षण किया है। दक्षिण कोरिया की एक मौसम विज्ञान एजेंसी का दावा है कि ये एक कृत्रिम भूकंप लग रहा है, ये परमाणु परीक्षण की वजह से भी हो सकता है। योनहाप के सरकारी अधिकारियों के अनुसार जिस जगह पर ये भूकंप दर्ज हुआ है वहां पर परमाणु परीक्षण किए जाते हैं। बता दें कि उत्तर कोरिया यूनाइटेड नेशन के प्रतिबंधों को तोड़ते हुए लगातार परमाणु परीक्षण कर रहा है।
यूएन के प्रतिबंधों को लगातार ललकार रहा है उत्तर कोरिया
उत्तर कोरिया ने सबसे पहले 2006 में परमाणु परीक्षण किया था। यूएन के प्रतिबंधों को ललकारते हुए इस साल उत्तर कोरिया ने बहुत से मिसाइल टेस्ट किए हैं। पिछले सप्ताह जब चीन में जी-20 शिखर सम्मेलन चल रहा था, उसी दौरान उत्तर कोरिया ने अपनी तीन बैलेस्टिक मिसाइलों का परीक्षण किया था। उत्तर कोरिया के तानाशाह किम जोंग उन ने इस परीक्षण को परफेक्ट बताया था। अमरीका के राष्ट्रपति बराक ओबामा ने उत्तर कोरिया को चेतावनी भी दी थी। जापान की मौसम विज्ञान एजेंसी के अनुसार इस भूकंप के आंकड़े सामान्य भूकंप से अलग हैं। इस भूकंप की तरंगे भी अलग थी। ऐसा ही माना जा रहा है कि उत्तर कोरिया ने फिर से कोई परमाणु परीक्षण किया है।यूएन सहित कई देशों ने जताई चिंता

ये भी पढ़ें :-  पाकिस्तान : सूफी दरगाह परिसर में विस्फोट, 50 मरे

उत्तर कोरिया द्वारा पांचवें परमाणु किए जाने पर यूएन एटॉमिक एजेंसी ने कहा कि उनका ये कदम परेशान करने वाला है। जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे ने कहा है कि दक्षिण कोरिया द्वारा किए गए इस परमाणु परीक्षण को कतई स्वीकार नहीं किया जा सकता। वहीं व्हाइट हाउस की तरफ से भी इस मामले में प्रतिक्रिया दी गयी है। व्हाइट हाउस का कहना है कि उत्तर कोरिया द्वारा किये गए इस परीक्षण पर ओबामा ने दक्षिण कोरिया और जापान से इस बारे में बात की है।

अन्य ख़बरों से लगातार अपडेट रहने के लिए हमारे Facebook पेज को Join करे

ये भी पढ़ें :-  अफगानिस्तान में तालिबान आंतकियों ने 52 नागरिकों को किया अगवा
लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>
error: 24hindinews.com\'s content is copyright protected
error: 24hindinews.com\'s content is copyright protected