पिता को अपने बेटे पर गर्व है, सेना को इसका बदला लेना चाहिए

Sep 19, 2016
पिता को अपने बेटे पर गर्व है, सेना को इसका बदला लेना चाहिए

बिहार के शहीद नायक सुनील कुमार विद्यार्थी की मां कुंती देवी को बिखलते हुए  देख वहाँ मौजूद हर शख्स की आंख में आंसू थे। विद्यार्थी पटना से 117 किमी दूर गया के बोकनारी गांव के रहने वाले थे।

विद्यार्थी की बड़ी बेटी आरती (14 साल) को पता है कि अब उसके पिता कभी नहींं लौटेंगे।

पिता मथुरा यादव का कहना है, विद्यार्थी करीब ढाई महीने पहले गांव आया था। उसने वादा किया था कि वह दशहरे पर जरूर आएगा। वह दशहरे की छुट्टियों में अपने पुश्तैनी घर की मरम्मत भी करवाने वाला था, लेकिन लगता है ईश्व को कुछ और ही मंजूर था।  हमें रविवार शाम छह बजे सेना से फोन आया और बताया कि पापा शहीद हो गए हैं। परिवार में आरती की दो छोटी बहनें, अंशु (12 साल) और आशिका भी है। अंशु छठी में पढ़ती है, वहीं आशिका नर्सरी में है।

ये भी पढ़ें :-  उनकी नस्ल 'देशभक्ति के सर्टिफ़िकेट' बांट रही है, जिन्होंने अंग्रेजों की गुलामी कर उनके तलवे चाटे हैं!

अन्य ख़बरों से लगातार अपडेट रहने के लिए हमारे Facebook पेज को Join करे

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>