डॉक्टर बने गरीब मरीज़ के लिए ‘शैतान’ काम आयी इंसानियत

Aug 18, 2016
आगरा आगरा में टीबी की बीमारी से पीड़ित महिला मरीज जब जिला अस्पताल और एस एन मेडिकल में अपना इलाज कराने पहुंची तो उसे बाहर निकाल दिया गया। जिसके बाद बीमार महिला को देखकर एक समाज सेविका से नहीं रहा गया और उसने खुले आसमान के नीचे ही मरीज का इलाज शुरू करा दिया है।
मरीज को सड़क किनारे ही खून की बोतल चढ़ा कर इलाज़ कराना शुरु किया गया, जिससे सरकारी अस्पतालों में बेहतर इलाज का दावा करने वाली सरकार की पोल खुलती नज़र आती है। प्रदेश की सरकार गरीबों के इलाज के लिए तमाम बुनियादी सुविधाओं से लैस कर इलाज का बड़ा बड़ा दावा करती है, लेकिन सरकारी अस्पतालों की हकीकत कुछ और ही है।
एक गरीब महिला जो की टीबी की मरीज है उसके साथ ताजनगरी के डाक्टरों ने जो किया वो हैरान कर देने वाला है। खुले आसमान के नीचे जीवन यापन करने वाले एक रिक्शा चालक की पत्नी पूनम टीबी की बीमारी से ग्रस्त है।
शहर के सबसे टॉप इलाकों में गिने जाने वाले होटल मरीना के पास खुले आसमान के नीचे पिछले कई दिनों से उसका इलाज चल रहा है। पूनम बहुत बीमार थी. हालत ऐसी की वो चलने लायक भी नहीं है। महात्मा गांधी मार्ग यानि एम जी रोड के किनारे जब यह महिला लेटी हुई थी, तब वहां से गुजर रही ज्योति नाम की समाज सेविका रुकी और उस पर रहा नहीं गया देखा। तब ज्योति ने एक डॉक्टर को बुलाकर पूनम की जांच कराई तो पाया कि मरीज़ को खून की बहुत कमी है। डॉक्टर की सलाह के मुताबिक़ ज्योति ने खून का इंतजाम करके पूनम का इलाज शुरू करा दिया। अब तक पूनम पर चार यूनिट खून चढ़ाया जा चुका है और अब पूनम की हालात पहले से ठीक है।
अन्य ख़बरों से लगातार अपडेट रहने के लिए हमारे Facebook पेज को Join करे
लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

Jan 19, 2018

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>