विश्व प्रसिद्ध ताजमहल को नष्ट करने की चाह में मोदी सरकार, सुप्रीम कोर्ट में हुई बहस

Aug 18, 2017
विश्व प्रसिद्ध ताजमहल को नष्ट करने की चाह में मोदी सरकार, सुप्रीम कोर्ट में हुई बहस

गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र को फटकार लगाते हुए कहा कि क्या वह विश्व प्रसिद्ध ताजमहल को नष्ट करना चाहती है? कोर्ट की यह टिप्पणी उस समय सामने आई जब एक याचिका की सुनवाई कि दौरान कहा गया कि सरकार ने मथुरा और दिल्ली के बीच एक अतिरिक्त रेलवे ट्रैक बिछाने के लिए 400 पेड़ो को काटे जाने को मंजूरी देने की मांग की गई थी।

बता दें कि ताजमहल के बारे में बात करते हुए जस्टिस मदन बी लोकुर और दीपक गुप्ता की बेंच ने कहा कि, ‘अगर आप यही चाहते हैं तो एक हलफनामा या आवेदन दायर कीजिए और कहिए कि भारत की सरकार ताजमहल को तबाह करना चाहती है।’ कोर्ट ने इस दौरान पुछा क्या आपने ताजमहल की तस्वीरें को देखी है अगर नहीं तो इंटरनेट पर जाकर देखिये।

ये भी पढ़ें :-  फलाहारी बाबा को लेकर पीड़िता के पिता का बड़ा खुलासा- कहा, लड़कियों की अश्लील वीडियो बनाकर उन्हें ब्लैकमेल करता था

कोर्ट ऐतिहासिक ताजमहल के सफाई के लिए क्षेत्र में विकास के कामों की निगरानी कर रहा है। बता दें कि 1631 में मुगल सम्राट शाह जहां ने ताजमहल को अपनी बीवी मुमताज की याद में बनवाया था। और ये भारत के लिए गर्व की बात है कि यह यूनेस्को के वर्ल्ड हेरिटेज साइट्स में शामिल है।

लाइक करें:-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>