दलित के शव को श्मशान में नहीं जलाने दिया, घर के सामने ही करना पड़ा अंतिम संस्कार

Dec 25, 2017
दलित के शव को श्मशान में नहीं जलाने दिया, घर के सामने ही करना पड़ा अंतिम संस्कार

मध्य प्रदेश में दलितों के साथ भेदभाव कोई नई बात नहीं है। लेकिन इस में हैरानी की बात तो ये है कि अब दलितों को श्मशान में मृतकों का अंतिम संस्कार भी नहीं करने दिया जा रहा है। जिसके बाद दलितों को अपने मृतकों का अंतिम संस्कार अपने घर के सामने ही करने पर मजबूर कर दिया गया है।

बता दें कि शर्मनाक मामला भिंड जिले के एंडोरी थाने के लोहरी का पुरा गांव का है। मिली जानकारी के मुताबिक गांव के कप्तान वाल्मिकी का ग्वालियर में इलाज के दौरान लंबी बीमारी के बाद निधन हो गया। जिसके बाद परिजन अंतिम संस्कार करने मुक्तिधाम पहुंचे तो कुछ लोगों ने अंतिम संस्कार करने से उन्हें रोक दिया। मृतक के पुत्र लालसिंह इस बारे में बात करते हुए बताया जिस में उन्होंने कुछ लोगों के नाम भी लिए, कहा कि जब वह अपने पिता का शव लेकर मुक्तिधाम के लिए चिह्नित जगह पर पहुंचा तो उनको रोक दिया गया। इसका कहना है कि मृतक का शव अधिक समय तक रखा नहीं जा सकता इसलिए घर के दरवाजे पर चिता सजाई गई और मुखाग्नि दी गई।

मीडिया की मानें तो इस खबर के सामने आने के बाद वहां पुलिस को मौके पर भेजा गया। ऐसा बताया जा रहा है कि गांव में दो मुक्तिधाम हैं एक में विवाद की स्थिति है। इसके बाद भी किसी मृतक का अंतिम संस्कार घर के दरवाजे पर करना गंभीर मसला है इस मामले की जांच कराई जा रही है। इस बारे में पुलिस का कहना है कि जाँच की जा रही है रिपोर्ट आते ही करवाई की जाएगी।

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>