तीनों देशों का खून, नस्ल और मिजाज एक है, सोचने का अंदाज एक है, इस पर बात होनी चाहिए

Oct 04, 2016
तीनों देशों का खून, नस्ल और मिजाज एक है, सोचने का अंदाज एक है, इस पर बात होनी चाहिए

रविवार को आयुष अस्‍पताल का उद्घाटन करने कैबिनेट मंत्री आजम खान गए थे। भास्कर से बातचीत में उन्होंने कहा, कि तीनों देशों का खून, नस्ल और मिजाज एक है, सोचने का अंदाज एक है। इसके बाद भी हम आपस में इतने नाराज क्यों हैं। अगर तीसरी वर्ल्ड वॉर होती है। तो उसका फैसला भी जंग के मैदान में नहीं, बल्कि बंद कमरे में राउण्ड टेबल पर बैठकर होगा। समझदार वो है जो यह तय करे कि हमारा बड़ा दुश्‍मन कौन है और छोटा दुश्‍मन कौन।पाकिस्तान और बांग्लादेश भी हिन्दुस्तान का हिस्सा था।

इजराइल की मिसाल दी। कहा कि हिटलर यहूदी कौम को मिटा देना चाहता था, लेकिन क्या कौम मिटी नहीं। आज इजराइल बहुत छोटा मुल्क होने के बावजूद भी दुनिया की इकॉनॉमी पर असर डालता है। दुनिया में सबसे ज्यादा साइंस का इजाद इजराइल में हुआ।

अन्य ख़बरों से लगातार अपडेट रहने के लिए हमारे Facebook पेज को Join करे

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>