सेना के पूर्व DGMO ने कहा-कांग्रेस सरकार में सर्जिकल स्ट्राइक की बात झूठी

Oct 07, 2016
सेना के पूर्व DGMO ने कहा-कांग्रेस सरकार में सर्जिकल स्ट्राइक की बात झूठी
यूपीए सरकार के कार्यकाल में सर्जिकल स्ट्राइक होने के दावे को सेना के पूर्व डीजीएमओ ले. जनरल विनोद भाटिया ने नकार दिया है।  उन्होंने कहा है कि जब वे सेना में डीजीएमओ रहे तो उस दौरान कभी भी सर्जिकल स्ट्राइक नहीं हुई। भाटिया ने कहा कि 2013-14 के बीच कोई सर्जिकल स्ट्राइक नहीं हुई थी। उन्होंने भ्रम दूर करते हुए कहा कि  क्रॉस बॉर्डर वाले पहले जो ऑपरेशन हुए, उन्हें ही सर्जिकल स्ट्राइक नहीं कहा जा सकता। सर्जिकल स्ट्राइक और आम कार्रवाई की प्लानिंग में जमीन-आसमान का अंतर होता है। गौरतलब है कि ले. जनरल भाटिया 2012-14 के दौरान भारतीय सेना के डीजीएमओ रहे।
हर कार्रवाई सर्जिकल स्ट्राइक नहीं होती
भारतीय सेना के पूर्व डीजीएमओ भाटिया बोले कि सेना की सीमा के आसपास हर कार्रवाई सर्जिकल स्ट्राक नहीं होती। पहले जो कुछ कार्रवाई हुई उन्हें सर्जिकल स्ट्राइक इसलिए नहीं कहा जा सकता, क्योंकि यह बहुत ही स्थानीय स्तर के थे। इनमें कोई अच्छी-खासी प्लानिंग नहीं बनाई गई। उन्होंने बताया कि सेना के चार अहम कार्य होते हैं। पहला काम नियंत्रण रेखा की सुरक्षा करना, दूसरा भारतीय सीमाओं पर कड़ी चौकसी बरतना, तीसरा काम सरहद पार से आतंकी घुसपैठ रोकना है। चौथा काम होता है दुश्मन सेना पर दबाव कायम किए रखना।
कांग्रेस ने कहा था-मनमोहन सरकार में इन तारीख पर हुई थी सर्जिकल स्ट्राइक
दरअसल कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने ट्वीट कर कहा था कि भाजपा सरकार ही नहीं बल्कि कांग्रेस के राज में भी कई बार सर्जिकल स्ट्राइक हुई। उन्होंने मनमोहन सरकार के कार्यकाल में हुई सर्जिकल स्ट्राइक की तारीख भी जारी कर दी। उनके मुताबकि एक सितंबर 2011, 28 जुलाई 2013, 14 जनवरी 214 को भारतीय सेना ने आतंकियों को ठिकाने लगाने के लिए सर्जिकल स्ट्राइक की। रणदीप सुरजेवाला ने तारीख जारी करते हुए कहा कि उस समय कांग्रेस ने देशहित में इसका प्रचार नहीं किया।
अन्य ख़बरों से लगातार अपडेट रहने के लिए हमारे Facebook पेज को Join करे
ये भी पढ़ें :-  भारतीय सेना के लिए ख़रीदे गए 6 अपाचे हेलिकॉप्टर
लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>