आतंकी खतरा : राजनाथ ने दिये देश में पुख्ता सुरक्षा बंदोबस्त करने का निर्देश

Mar 07, 2016

गुजरात के जरिये भारत में लश्कर-ए- तैयबा और जैश-ए-मोहम्मद के 10 सदिग्ध आतंकियों के घुसने की सूचना पर गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने आतंरिक सुरक्षा की स्थिति की समीक्षा की.

गृह सचिव राजीव महर्षि एवं खुफिया ब्यूरो के निदेशक दिनेश्वर शर्मा सहित शीर्ष अधिकारियों ने इस बैठक में भाग लिया. बैठक में सिंह ने स्थिति की समीक्षा की और किसी भी संभावित आतंकी खतरे की रोकथाम के लिए उठाए जाने वाले कदमों की जानकारी ली.

आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि गृह मंत्री को अवगत कराया गया कि चार एनएसजी दलों को गुजरात के विभिन्न स्थलों पर तैनात किया गया है और आपात स्थिति में उन्हें किसी भी जगह पर फौरन रवाना किया जा सकता है.

गृह मंत्री ने गुजरात में सामरिक स्थलों, धार्मिक जगहों, औद्योगिक स्थलों तथा खतरे की आशंका वाले मेट्रो शहरों की सुरक्षा बढ़ाने के लिए उठाए गए कदमों की भी समीक्षा की.बैठक में रॉ और आईबी चीफ के अलावा कई आला अधिकारी भी शामिल हुए.

अधिकारियों ने बताया कि ये एक रुटीन मीटिंग थी. मीटिंग में किसी भी स्थिति से निपटने के लिए पुख्ता सुरक्षा बंदोबस्त करने के निर्देश दिए हए है.

अभी तक संदिग्ध आतंकवादियों के बारे में कोई सुराग नहीं है. केन्द्रीय सुरक्षा एजेंसियों द्वारा गुजरात एवं अन्य प्रमुख महानगरों में अलर्ट घोषित किया गया क्योंकि एेसी खुफिया सूचनाएं मिली थीं कि 10 आतंकवादी महत्वपूर्ण निशानों पर हमला करने के लिए इस पश्चिमी राज्य में प्रवेश कर गए हैं.

गुजरात में आतंकी हमला होने की आशंका को लेकर जारी अलर्ट के बाद आज ‘महाशिवरात्रि’ के अवसर पर राज्य में सुरक्षा के अभूतपूर्व इंतजाम किए गए. राज्य में राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड (एनएसजी) की टीमों को तैनात किया गया. बड़े मंदिरों एवं सभी संवेदनशील इलाकों में भारी सुरक्षा के अलावा पुलिस बड़े पैमाने पर तलाशी अभियान भी चला रही है.

खुफिया एजेंसियों ने दिल्ली, मुंबई, हैदराबाद, सायबराबाद और बंगलुरु के पुलिस कमिश्नर को शनिवार को ही अलर्ट जारी किया है. यह अलर्ट राजस्थान, गुजरात, महाराष्ट्र, गोवा, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, कर्नाटक, यूपी, एमपी और हरियाणा के डीजीपी को भी भेजा गया है.

सूत्रों के मुताबिक, गुजरात में पाकिस्तानी सीमा से देश में घुसे आतंकियों के बारे में सुराग नहीं मिलने से खुफिया एजेंसियां परेशान हैं. आईबी, रॉ सहित तमाम एजेंसियां 10 आतंकियों के सुराग जुटाने में लगी हुई हैं. टी-20 क्रिकेट वर्ल्डकप देखने आ रहे पाक नागरिकों पर भी आईबी की नजर रहेगी.

सूत्रों ने बताया कि पठानकोट वायुसेना ठिकाने पर दो जनवरी को हुए आतंकवादी हमले के बाद सुरक्षा एजेंसियां कोई जोखिम नहीं लेना चाहती तथा किसी भी संभावित खतरे को टाले के लिए हर संभाव प्रयास किए जा रहे हैं.

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>