पहली ही पोस्टिंग में रिश्वत लेते धरे गए IAS अधिकारी

Jul 14, 2016

पटना। आइएएस अफसर बनना बेहद ही गर्व का एहसास देता है। साथ ही कई जिम्मेदारियां और ईमानदारी से कर्तव्य निर्वहन की ली गई शपथ का महत्व किसी भी आइएएस अफसर में जीवन और कैरियर में अहम होता है। ऐसे में यदि किसी आइएएस अफसर को अपनी पहली ही पोस्टिंग में रिश्वत लेते रंगे हाथ पकड़ लिया जाता है तो तमाम धारणाएं टूट जाती हैं। बिखर जाती हैं।

ऐसा ही कुछ वाकया बिहार में सामने आया है। ऐसा पहली बार हुआ है कि किसी आइएएस अफसर को अपनी पहली ही पोस्टिंग में विजिलेंस की टीम ने पकड़ा है। मंगलवार को विजिलेंस टीम ने कैमूर जिले के मोहनिया अनुमंडल के एसडीएम जितेन्द्र गुप्ता को 80 हजार की रिश्वत लेते हुए गिरफ्तार किया है। अधिकारी ने ये पैसे ट्रक चालक से उसकी गाड़ी छोड़ने के एवज में मांगे थे।

ट्रक ड्राइवर के अनुसार, मोहनिया के एसडीएम ने उसकी चार गाड़ियों को पकड़ा था। गाड़ियों पर लोहा लदा था। वह टाटा से पंजाब जा रहा था। उसकी एक गाड़ी को छोड़कर बाकी की तीन गाड़ियां ओवरलोडेड थीं, जिसे पिछले चार दिनों से खड़ा करवा कर एक लाख पैतालीस हजार रुपए की मांग एसडीएम कर रहे थे।

ड्राइवर के मुताबिक, मंगलवार को एसडीएम ने 80 हजार रुपए पहुंचाने के लिए आवास पर बुलाया था। जैसे ही एसडीएम ने पैसे लिये, तभी वहां मौजूद विजलेंस की टीम ने पैसा लेते रंगे हाथ पकड़ लिया। विजिलेंस की टीम ने पहले उक्त अफसर से घऱ पर ही पूछताछ की, उसके बाद उनको कहां ले जाया गया है, इसका पता नहीं चल सका है। बता दें कि जितेंद्र गुप्ता 2013 बैच के IAS अधिकारी हैं।

अन्य ख़बरों से लगातार अपडेट रहने के लिए हमारे Facebook पेज को Join करे

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>