विदेशी पुरस्कारों को जरूरत से अधिक महत्व देता है मीडिया : जाकिर हुसैन

Mar 03, 2017
विदेशी पुरस्कारों को जरूरत से अधिक महत्व देता है मीडिया : जाकिर हुसैन

तबला वादक जाकिर हुसैन का कहना है कि कलाकारों द्वारा देश में जीते जाने वाले पुरस्कारों की तुलना में विदेश में जीते जाने वाले पुरस्कारों को मीडिया अधिक महत्व देता है।

जाकिर हुसैन खुद भारत और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर जीत हासिल कर चुके हैं।

भारतीय तबला वादक संदीप दास और अभिमान कौशल द्वारा विदेशों में अलग सहयोगात्मक कार्यक्रमों को लेकर ग्रैमी पुरस्कार हासिल करने के कुछ दिनों बाद जाकिर ने यह बात कही।

वर्ष 2002 में पद्म भूषण से सम्मानित हो चुके हुसैन ने एक ईमेल साक्षात्कार में आईएएनएस को बताया, “मीडिया कलाकारों द्वारा घरेलू स्तर पर जीते जाने वाले पुरस्कारों की तुलना में अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर जीते जाने वाले पुरस्कारों को अधिक महत्व देता है, यहां तक कि दिग्गज रहमान भाई (ए.आर.रहमान) ने एक विदेशी टीम (डैनी बॉयल की फिल्म ‘स्लमडॉग मिलिनेयर’) के सहयोग से पुरस्कार (ऑस्कर) हासिल किया। यह भारतीय प्रोडक्शन नहीं था।”

हुसैन पिछले सप्ताह अजीवासन म्यूजिकल अकादमी के वसंतोत्सव के 17वें संस्करण में मुंबई प्रस्तुति देने पहुंचे, जहां कथक कलाकार बिरजू महाराज उत्तम वेग गेयकर अवॉर्ड से नवाजा गया।

हुसैन ने वर्ष 2009 में ‘ग्लोबल ड्रम प्रोजेक्ट’ के लिए ग्रेमी में बेस्ट कॉटेंपररी वर्ल्ड म्यूजिक अल्बम का पुरस्कार हासिल किया था।

पंडित रवि शंकर, विक्कू विनायक्रम, मोहन वीना खिलाड़ी विश्व मोहन भट्ट ने भी ग्रैमी पुरस्कार जीता था।

पिछले कुछ वर्षो में अंतर्राष्ट्रीय संगीत में भारतीय संगीत वाद्ययंत्र की भागीदारी के संदर्भ में हुसैन ने कहा, “भारतीय वाद्ययंत्रों को आमतौर पर पूरी दुनिया में रिकॉर्डिग के लिए इस्तेमाल किया जाता है।”

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>