मुझ पर चाहे कितने भी निजी हमले कर लो लेकिन गरीबों को न दबाएं : राहुल गांधी

Mar 07, 2016

कांग्रेस उपाध्‍यक्ष राहुल गांधी ने एक बार फिर पीएम और केंद्र सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि मुझ पर चाहे कितने भी निजी हमले कर लो लेकिन गरीबों को न दबाएं. गरीबों को मारने से देश हित नहीं होगा.

राहुल गांधी कन्‍हैया की तरफदारी करते हुए कहा कि कन्‍हैया को दबाने की कोशिश की गई. देश में कमजोर लोगों को दबाया जा रहा है. कहा कि मुझ पर चाहे कितने भी निजी हमले कर लो लेकिन गरीबों को ना दबाएं. गरीबों को मारने से देश हित नहीं है.

उन्होंने कहा कि प्रत्येक दिन मोदी जी की पार्टी मुझ पर निजी हमला करती है. मुझे इसकी परवाह नहीं है लेकिन उन्हें गरीबों पर हमला नहीं करना चाहिए.

उन्होंने यह भी कहा कि केंद्रीय मंत्री और बीजेपी नेता उनके खिलाफ निजी हमले करने के लिए स्वतंत्र हैं लेकिन ‘उन्हें गरीबों और कमजोरों को नहीं कुचलना चाहिए जिनके लिए मैं अपनी आवाज उठाता हूं.’

कांग्रेस उपाध्यक्ष ने दिल्ली में संवाददाताओं से कहा, ‘बस्तर के आदिवासी आज मुझसे मिले. उन्होंने कहा कि वे छत्तीसगढ़ के बस्तर में उत्पीड़न का सामना कर रहे हैं और उन्हें डराया धमकाया जा रहा है, उन्हें कुचला जा रहा है.’

उन्होंने कहा, ‘लोगों के साथ मारपीट करने और उन्हें डराने धमकाने से देश का भला नहीं होगा. आपने हैदराबाद में रोहित वेमुला पर दबाव डाला, यहां आप कन्हैया और हमारे छात्रों पर दबाव डाल रहे हैंं.’

उन्होंने आरोप लगाया कि जहां कहीं भी गरीब चाहे वह किसान, दलित, जनजाति या छोटे व्यापारी हों, अधिकार मांग रहा है, छोटे व्यापारी मेरे पास आए थे, जहां कहीं कमजोर व्यक्ति अपनी आवाज उठा रहा है राजग सरकार, मोदी सरकार उसे कुचल रही है.

उन्होंने कहा कि ये लोग भारत की ताकत हैं और उन्हें कुचलकर किसी का भला नहीं होगा.

राहुल ने कहा, ‘यदि आपको कार्रवाई ही करनी है तो कीजिए. जो कानून तोड़ते हैं, उनके खिलाफ कार्रवाई कीजिए. लेकिन गरीबों को कुचलकर, डरा-धमकाकर और उनके साथ मारपीट करने से देश की मदद नहीं होगी.’

लोकसभा में मोदी द्वारा दिए गए इस बयान कि ‘कुछ लोगों की उम्र तो बढ़ती है, लेकिन वे परिपक्व नहीं हो पाते हैं’ की ओर परोक्ष इशारा करते हुए राहुल गांधी ने कहा कि प्रधानमंत्री और उनके मंत्रिमंडलीय सहयोगी उन पर हमला करने के लिए स्वतंत्र हैं.

उन्होंने कहा, ‘मोदी मुझ पर निजी हमले करते हैं. उनके पार्टी सहयोगी रोजाना मुझ पर निजी हमले कर रहे हैं.’

वित्तमंत्री अरूण जेटली ने कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी पर उनके लोकसभा भाषण को लेकर हाल ही हमला किया था और कहा था, ‘‘जितना ही मैं राहुल गांधी को सुनता हूं, उतना ही मुझे अचरज होता जाता है कि कितना वह जानते हैं – कब वह जानने लगेंगे.’

गांधी के इस बयान पर कि प्रधानमंत्री नीतिगत मुद्दों पर अपने वरिष्ठ मंत्रियों से संपर्क नहीं करते, जेटली ने अपने फेसबुक पोस्ट में लिखा था, ‘जब कोई व्यक्ति युवावस्था से आधी उम्र में पहुंचता है तब हम निश्चित ही उससे कुछ निश्चित स्तर की परिपक्वता की उम्मीद करते हैं.’

राहुल गांधी ने कहा, ‘आप जितना चाहते हैं, निजी हमले कीजिए. लेकिन गरीबों, कमजोरों को मत कुचलिए जिनके लिए मैं आवाज उठाता हूं. आप जितना चाहते हैं, उतना मुझ पर प्रहार कीजिए. जितना चाहते हैं आप बोलिए, लेकिन देश के गरीब लोगों पर प्रहार मत कीजिए.’

गौरतलब है कि बजट सत्र के दौरान चर्चा में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राहुल गांधी को बिना नाम लिए मंदबुद्धि तक कह दिया था. वहीं बीजेपी अध्‍यक्ष अमित शाह, मानव संसाधन‍ विकास मंत्री स्मृति ईरानी, वित्त मंत्री अरुण जेटली जैसे नेताओं ने पिछले दिनों राहुल गांधी की जमकर आलोचना की थी. स्मृति इरानी ने तो राहुल गांधी की उम्र को लेकर भी टिप्पणी कर दी थी.

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>