डिप्टी सीएम के ससुराल में आज भी अंधेरा, आजादी के बाद से अब तक नहीं पहुँची बिजली: पढ़िए- पूरा मामला

May 29, 2017
डिप्टी सीएम के ससुराल में आज भी अंधेरा, आजादी के बाद से अब तक नहीं पहुँची बिजली: पढ़िए- पूरा मामला

केंद्र सरकार भले की पंडित दीनदयाल ग्रामीण ज्योति योजना के तहत गांव गांव बिजली पहुंचाने का आदेश विधुत विभाग को सुना दिया हो। लेकिन उत्तर प्रदेश के डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य के ससुराल में आज भी अंधेरा है। मतलब वहाँ आज भी बिजली नहीं पहुँची है। जहां आजादी के 70 साल गुजर जाने के बाद भी अंधेरा ही अंधेरा है।

हैरानी की बात तो ये है कि विधुत विभाग की तरफ से विधुतीकरण की जारी सूची में भी खूझा गांव यानि की डिप्टी सीएम के ससुराल का नाम शामिल नही है। डिप्टी सीएम का ससुराल सिराथू तहसील से करीब 25 किलो मीटर की दूरी पर है। 300 सौ से अधिक आवादी वाले इस गांव में आजादी के बाद से अब तक लोगो को बिजली नही मालूम कैसी होती है।

ये भी पढ़ें :-  वीडियो: BJP प्रत्याशी का विरोध कर रहे लोगों पर भाजपा नेता ने तानी तलवार

केशव प्रसाद मौर्य के प्रदेश का डिप्टी सीएम बनने के बाद खूझा गांव लोगो को बड़ी उम्मीदें थी कि इस गांव का अब दामाद डिप्टी सीएम बन चूका है तो अब यहाँ बिजली आ जाएगी। लेकिन ससुरालियों की यह उम्मीदें महज एक सपना ही साबित हो रही है। गांव के बच्चे लालटेन के सहारे पढ़ाई लिखाई तो करते है लेकिन उनके भविष्य पर बिजली की कमी खलेगी।

आज भी इस गांव में पेट्रो मैक्स यानी कि गैस की रोशनी में दुल्हन की डोली उठती है। ऐसे में गरीब लोग गेस्ट हाउस और जनरेटर आदि का भारी भड़कम खर्च वहन करने के लिए अक्षम है। जब केशव प्रसाद मौर्य 2012 में सिराथू से विधायक बने थे, तब भी इस गांव की आशा बढ़ी की अब इस गांव का दामाद कुछ इस गांव के लिए करेगा। फिर भी अपने ससुरालियों को बिजली नही दिला सके। जब केशव प्रसाद मौर्य एक बार फिर प्रदेश के डिप्टी सीएम बन गए तो उनके ससुरालियों में फिर से दूसरी बार उम्मीदों की आस जाग पड़ी थी, लेकिन तीन महीने बीतने को है आज भी इस गांव में बिजली नसीब नही हुई है।

ये भी पढ़ें :-  वीडियो: झारखंड में विधायकों ने करवाई सामूहिक चुंबन प्रतियोगिता, हुआ विवाद
लाइक करें:-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>