श्री श्री रविशंकर के कार्यक्रम पर विवाद भारत की छवि बिगाड़ने की साजिश: आदित्यनाथ

Mar 09, 2016

भाजपा के वरिष्ठ नेता योगी आदित्यनाथ ने 11 से 13 मार्च तक दिल्ली के यमुना तट पर होने वाले विश्व सांस्कृतिक महोत्सव को लेकर उठे विवाद को अनावश्यक बताते हुए कहा कि यह भारत की छवि बिगाड़ने की साजिश है.

आदित्यनाथ ने बुधवार को संसद भवन परिसर में कहा कि यह विवाद अनावश्यक है.

उन्होंने कहा, ‘‘जिन मुद्दों को उठाकर यह विवाद छेड़ा जा रहा है, वे अनावश्यक हैं. गंगा-यमुना के तट पर प्रयागराज में हर 12 वर्ष में महाकुंभ होता है और छह वर्ष में अर्धकुंभ होता है. करीब दस करोड़ श्रद्धालु वहां आते हैं. तब वहां न गंगा प्रदूषित होती है और न यमुना. नासिक में गोदावरी के तट पर कुंभ होता है और महीनों तक लोग नदी के तट पर रहते हैं लेकिन वहां प्रदूषण की कोई समस्या नहीं होती है. इसी प्रकार की स्थिति उज्जैन में शिप्रा के तट पर और हरिद्वार में गंगा के तट पर होती है.’’

उन्होंने कहा कि दिल्ली में यमुना के तट पर तो केवल तीन दिन का सांस्कृतिक महोत्सव हो रहा है और इसमें अधिकतम 35 लाख लोगों के आने की संभावना है जबकि कुंभ में महीनों तक करोड़ों लोग नदियों के किनारे रहते हैं. यह केवल भारत की छवि को धूमिल करने का कुत्सित प्रयास है.

उल्लेखनीय है कि ‘आर्ट ऑफ लिविंग’ के प्रणेता श्री श्री रविशंकर विश्व सांस्कृतिक महोत्सव आयोजित करा रहे हैं लेकिन इस आयोजन के खिलाफ कई पर्यावरणविदों ने राष्ट्रीय हरित न्यायाधिकरण में याचिकाएं दाखिल की हैं.

इस कार्यक्रम में राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भी हिस्सा लेना था लेकिन राष्ट्रपति ने विवाद उठने के बाद इससे किनारा कर लिया है.

 

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>