सपा में लड़ाई खत्म, मुलायम झुके, साईकिल हुई अखिलेश कि

Jan 06, 2017
सपा में लड़ाई खत्म, मुलायम झुके,  साईकिल हुई अखिलेश कि

यूपी के सियासी गलियारे में चल रही गहमा- गहमी में चुनाव आयोग ने समाजवादी पार्टी के दोनों गुटो को नोटिस जारी कर अपनी ताकत साबित करने को कहा था। रामगोपाल यादव ने मंगलवार को चुनाव आयोग में कुछ दस्तावेज सौंपे हैं, उसमें दावा किया गया है कि अखिलेश यादव गुट ही समाजवादी पार्टी का असली हक़दार है। कागजात में यह भी दावा किया गया है कि मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को विधान सभा, विधान परिषद और लोकसभा, राज्य सभा के अधिकांश निर्वाचित सदस्यों का समर्थन प्राप्त है। करीब 100 पन्नों के इस कागजात में 5000 से ज्यादा पार्टी प्रतिनिधियों और 90 फीसदी सांसदों, विधायकों और विधान पार्षदों के हस्ताक्षर शामिल हैं। दूसरी तरफ मुलायम द्वारा सौंपे गए कागजात में कुछ लोगों के ही हस्ताक्षर हैं। ऐसे में चुनाव आयोग सिंबल को फ्रीज कर दोनों खेमो को अलग सिंबल जारी कर सकती है। हालांकि अभी भी दोनों खेमो के बीच अभी भी सुलह की कोशिशे की जा रही है। सूत्रों के हवाले से खबर मिली है की मुलायम सिंह पार्टी को बचाने के लिए झुकने को तैयार हो गए है। लायम भी जानते है की अगर अखिलेश अलग चुनाव लड़ता है तो पार्टी को बड़ा नुक्सान झेलना पड़ेगा। ऐसे में समाजवादी पार्टी के वोटर बसपा की तरफ भी झुक सकते है जिससे प्रदेश में बीजेपी मजबूत होकर उभर सकती है। इसलिए खबर है की मुलायम चुनाव संपन्न होने तक अखिलेश के ऊपर ही दाँव चलना चाहते है। अखिलेश ने भी केवल तीन महीने का समय माँगा है।

खबरों के अनुसार, मुलायम ने अखिलेश की मांग को मानते हुए उन्हें राष्ट्रिय अध्यक्ष के रूप में स्वीकार कर लिया है। अखिलेश चुनाव तक पार्टी की कमान खुद सँभालना चाहते थे, इस पर मुलायम ने अपनी सहमती दे दी है। मुलायम यह भी नही चाहते की चुनाव आयोग ‘साइकिल’ सिंबल को फ्रीज करे।

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>