समाजवादी एक्सप्रेसवे का 20 हजार करोड़ का ठेका हथियाने के लिए अब भी अखिलेश से सेटिंग में लगे हैं कई बिजनेस घराने

Oct 15, 2016
समाजवादी एक्सप्रेसवे का 20 हजार करोड़ का ठेका हथियाने के लिए अब भी अखिलेश से सेटिंग में लगे हैं कई बिजनेस घराने
लखनऊ को बलिया से जोडऩे के लिए 19437 करोड़ रुपये की लागत से प्रस्तावित समाजवादी पूर्वांचल एक्सप्रेसवे का ठेका पाने में अब भी कई बिजनेस घरानों ने उम्मीद नहीं छोड़ी है।शिलान्यास से पहले कंस्ट्रक्शन कंपनियों में इस महत्वाकांक्षी परियोजना का ठेका हासिल करने के लिए जबर्दस्त होड़ है। समाजवादी सरकार में मचे घमासान की एक अहम वजह इस परियोजना का ठेका दिल्ली की एक कंपनी को दिलाने के लिए बुने गए तानेबाने को भी बताया जा रहा है।
राज्य सरकार ने मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के ड्रीम प्रोजेक्ट आगरा-लखनऊ एक्सप्रेसवे को प्रदेश के पूर्वी हिस्से से जोडऩे के लिए समाजवादी पूर्वांचल एक्सप्रेसवे बनाने का फैसला किया है। सूबे के 10 जिलों से गुजरने वाला यह एक्सप्रेसवे 348 किमी लंबा होगा। राज्य सरकार ने समाजवादी पूर्वांचल एक्सप्रेसवे को अपने खर्च पर आठ टुकड़ों (पैकेजों) में बनाने का फैसला किया है। एक्सप्रेसवे के निर्माण के लिए तकरीबन चार हजार हेक्टेयर जमीन का अधिग्रहण किया जाना है। परियोजना की कुल लागत में लगभग 4000 करोड़ रुपये भूमि अधिग्रहण पर खर्च होने की संभावना है। यानी परियोजना के निर्माण पर तकरीबन साढ़े पंद्रह हजार करोड़ रुपये का खर्च आएगा।
अखिलेश सरकार चुनाव की अधिसूचना जारी होने से पहले समाजवादी पूर्वांचल एक्सप्रेसवे का शिलान्यास करना चाहती है। एक्सप्रेसवे के शिलान्यास से पहले उप्र एक्सप्रेसवे औद्योगिक विकास प्राधिकरण (यूपीडा) परियोजना के लिए आवश्यक भूमि का 50 प्रतिशत यानी लगभग दो हजार हेक्टेयर जमीन अधिग्रहीत करना चाहता है। अभी तकरीबन 15 फीसद जमीन ही अधिग्रहीत की गई है। परियोजना के लिए हुई तकनीकी बिड में 16 कंपनियों ने दिलचस्पी दिखायी थी जिनमें से फाइनेंशियल बिड के लिए 10 कंपनियों को शार्टलिस्ट किया गया है। इन 10 कंपनियों में से चार वे हैं, जो कि आगरा-लखनऊ एक्सप्रेसवे भी बना रही हैं, बाकी छह अन्य कंपनियां हैं। सूत्रों के मुताबिक इनमें से दिल्ली की एक कंपनी को ठेका दिलाने का ताना-बाना बुने जाने की जानकारी मुख्यमंत्री को मिलना ही मुख्य सचिव पद से दीपक सिंघल को हटाये जाने का सबब बना।
10 जिलों से गुजरेगा एक्सप्रेस वे
 प्रदेश के 10 जनपदों लखनऊ, बाराबंकी, अमेठी, सुल्तानपुर, फैजाबाद, अम्बेडकरनगर, आजमगढ़़, मऊ, गाज़ीपुर एवं बलिया से गुजरने वाली समाजवादी पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे लगभग 348.10 किलोमीटर की होगी, जो लगभग 120 मीटर चैड़ी होगी। उन्होंने बताया कि समाजवादी पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे मार्ग पर सर्विस रोड भी प्रस्तावित की गई है। उन्होंने कहा कि समाजवादी पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे का निर्माण कार्य पूर्ण हो जाने के फलस्वरूप सम्बन्धित जनपदों के किसानों को अपने उत्पादन का उचित दर पर विक्रय करने का अवसर प्राप्त होगा। उन्होंने कहा कि एक्सप्रेस-वे का निर्माण कार्य पूर्ण हो जाने के फलस्वरूप लखनऊ तथा भरौली/बलिया के मध्य की यात्रा लगभग 4.30 घंटे में पूरी की जा सकेगी।
अन्य ख़बरों से लगातार अपडेट रहने के लिए हमारे Facebook पेज को Join करे
लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>