भोपाल में सिमी कार्यकर्ता के एनकाउंटर पर 40 लाख के ईनाम को लेकर खड़ा हुआ विवाद

Nov 01, 2016
भोपाल में सिमी कार्यकर्ता के एनकाउंटर पर 40 लाख के ईनाम को लेकर खड़ा हुआ विवाद
जेल से फरारी के बाद कथित मुठभेड़ में मारे गए आठ सिमी कार्यकर्ता पर 40 लाख के ईनाम की दावेदारी को लेकर विवाद खड़ा हो गया है।  मध्य प्रदेश सरकार ने पहले से 40 लाख रुपये का इनाम घोषित कर रखा था। अब उनके मारे जाने पर इस इनाम के असली हकदार को तय करने में मुश्किल हो रही है। पुलिस का कहना है कि उसने खुफिया सूचना पर कार्यकर्ता को मुठभेड़ में मारा जबकि स्थानीय ग्रामीण कह रहे हैं कि पुलिस को सूचना उन्होंने दी है।
चौहान बोले-जांच के बाद तय होंगे हकदार
 सिमी कार्यकर्ता  के मारे जाने पर इनाम किसे मिले। यह सवाल मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान तक भी पहुंचा। उन्होंने कहा कि अभी इतनी जल्दी सब कुछ तय कर लेना उचित नहीं है। अगर गांव वालों ने सूचना दी है तो उनका हक नहीं मारा जाएगा। मगर जांच के बाद ही इनाम का हकदार तय होगा।
फरारी के बाद पांच-पांच लाख था इनाम
मध्य प्रदेश सरकार ने सिमी कार्यकर्ता  में से प्रत्येक पर पांच-पांच लाख रुपये का इनाम घोषित कर रखा था। यह इनाम तब रखा गया जब आतंकी भोपाल केंद्रीय जेल से फरार हो गए। अचारपुरा और मणिखेड़ा गांव के लोगों के मुताबिक उन्होंने ही कार्यकर्ता के बारे में सटीक सूचना दी तब जाकर पहुंची पुलिस ने एनकाउंटर किए। वहीं भोपाल के पुलिस अफसरों का कहना है कि उन्हें खुफिया सूत्रों ने कार्यकर्ता के छिपे होने की जानकारी दी थी।
अन्य ख़बरों से लगातार अपडेट रहने के लिए हमारे Facebook पेज को Join करे
लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>