सिग्नल फेल होने से, एक ही ट्रैक पर आ गईं दो ट्रेंनें, हादसा टला

Aug 17, 2016

स्वतंत्रता दिवस की शाम दिलकुशा केबिन पर दो पैसेंजर ट्रेनों के एक ही ट्रैक पर आमने-सामने जाने से हड़कम्प मच गया। 70 किमी प्रतिघंटे की स्पीड से ट्रेन दौड़ा रहे ड्राइवर ने 150 मीटर दूर उसी ट्रैक पर दूसरी ट्रेन देख इमरजेंसी ब्रेक लगाया और ट्रेन रोक ली। जिससे बड़ी दुर्घटना टल गई। सूचना मिलते ही आनन-फानन रेलवे अधिकारी मौके पर पहुंचे। करीब दो घंटे बाद इस ट्रैक पर संचालन शुरू हो सका।

वाराणसी-लखनऊ पैसेंजर (54333) 15 अगस्त की शाम करीब 5:30 बजे बाराबंकी होते हुए राजधानी आ रही थी। वहीं दूसरी ओर चारबाग रेलवे स्टेशन से प्रतापगढ़ पैसेंजर (54294) रवाना हुई। दिलकुशा केबिन पर पहुंचने से पहले प्रतापगढ़ पैसेंजर ट्रेन को रोक दिया गया जबकि, वाराणसी-लखनऊ पैसेंजर अपनी रफ्तार से आगे बढ़ रही थी।
रेलवे अधिकारियों ने बताया कि दिलकुशा केबिन पर प्रतापगढ़ पैसेंजर नार्थ लाइन पर खड़ी थी और वाराणसी-लखनऊ पैसेंजर भी नार्थ लाइन से ही आ रही थी, जबकि इसे केबिन से साउथ लाइन पर टर्न होकर चारबाग के लिए जाना था।

लेकिन केबिन पर प्वाइंट फेल होने से ड्राइवर ट्रेन को नार्थ लाइन पर ही बढ़ाता रहा, जिससे केबिन के आगे सपा कार्यालय के पास बनी क्रॉसिंग तक पहुंच गई। इसके बाद बने प्वाइंट नम्बर 305 पर ड्राइवर ने जब सामने प्रतापगढ़ पैसेंजर ट्रेन खड़ी देखी तो आनन-फानन में ब्रेक लगाकर ट्रेन रोक दी, जिससे बड़ा हादसा टल गया।

अन्य ख़बरों से लगातार अपडेट रहने के लिए हमारे Facebook पेज को Join करे

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

Jan 19, 2018

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>