शिंदे बोले कि इशरत जहां की कोई फाइल उनके पास नहीं आयी

Mar 05, 2016

इशरत जहां मामले को लेकर पैदा विवाद के बीच पूर्व केंद्रीय मंत्री सुशील कुमार शिंदे ने शनिवार को कहा कि उन्हें इस मुद्दे की कोई जानकारी नहीं थी क्योंकि कोई फाइल उनके पास नहीं आयी थी.

शिंदे ने मुंबई में प्रेट्र से कहा, ”मुझे इस बारे में कोई जानकारी नहीं है. इशरत जहां मामले की फाइल कभी मेरे पास नहीं आयी.”

पूर्व एनआईए अधिकारी लोकनाथ बेहरा की टिप्पणी के बारे में पूछे जाने पर शिंदे ने कहा, ”पूर्व एनआईए अधिकारी सहित इस प्रकार के सभी दावे बेबुनियाद हैं.”

शिंदे ने कहा, ”कोई मेरे पास नहीं आया और इस मामले के बारे में मेरी किसी से बात नहीं हुई.” वह संप्रग 2 सरकार में जुलाई 2012 से मई 2014 तक गृह मंत्री थे.
   
शिंदे की टिप्पणियां उन आरोपों की पृष्ठभूमि में आयी हैं जिनमें कहा गया था कि पिछली कांग्रेस की अगुवाई वाली संप्रग सरकार ने इशरत जहां के कथित आतंकी संपकरे पर हेडली की गवाही में जोड़तोड़ की कोशिश की थी.
 
केरल कैडर के आईपीएस अधिकारी बेहरा उस एनआईए टीम में शामिल थे जो वर्ष 2010 में हेडली से पूछताछ करने के लिए अमेरिका गयी थी. उन्होंने कहा है कि उन्हें ”ठीक से याद नहीं है कि हेडली ने इशरत के बारे में क्या कहा था.” लेकिन जब पिछले दिनों उन्होंने मुंबई की अदालत में हेडली की वीडियो गवाही के बारे में सुना था तो उन्हें ”वही बात” याद आ गयी जो हेडली ने वर्ष 2010 में एनआईए टीम को बतायी थी.

19 वर्षीय इशरत, जावेद शेख उर्फ प्रणेश पिल्लै, अमजदअली अकबरअली राणा और जीशान जौहर 15 जुलाई 2004 को अहमदाबाद के बाहरी इलाके में एक कथित फर्जी मुठभेड़ में मारे गए थे.

गुजरात पुलिस ने उस समय दावा किया था कि चारों के संबंध पाकिस्तान स्थित लश्कर ए तैय्यबा से थे और वे प्रदेश के तत्कालीन मुख्यमंत्री नरेन्द्र मोदी की हत्या के मकसद से शहर में आए थे.

हाल ही में मुंबई की एक अदालत में 26/11 मुंबई आतंकी हमले के संबंध में गवाही देते हुए हेडली ने कहा था कि इशरत लश्कर के लिए काम करती थी.

 

 

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>