शिक्षामित्र ने ‘स्वतंत्रता दिवस’ के दिन किया सुसाइड, डेड बॉडी रख शिक्षामित्रों ने लगाया जाम

Aug 16, 2017
शिक्षामित्र ने ‘स्वतंत्रता दिवस’ के दिन किया सुसाइड, डेड बॉडी रख शिक्षामित्रों ने लगाया जाम

उत्तर प्रदेश की योगी सरकार पर हर आये दिन नया संकट आ रहा है। इस तरह से हर रोज़ आते नए संकटों को देखते हुए ऐसा लगता है कि प्रदेश के मुख्यमंत्री आदित्यनाथ योगी किसी अभिषाप की चपेट में बुरी तरह से आ गए हैं।

बता दें कि प्रदेश के शिक्षा मित्रों पर सुप्रीम कोर्ट का फ़ैसला आये हुए कई दिन बीत गए हैं। लेकिन, इस फ़ैसले से आहत शिक्षा मित्र कभी सरकार तो कभी सुप्रीम कोर्ट के खिलाफ़ नाराज़ दिखाई दे रहे हैं इसी लिए पूरे प्रदेश में शिक्षा मित्रों द्वारा धरने प्रदर्शन का सिलसिला बड़े जोरों पर जारी है। जहाँ शिक्षा मित्रों का इस बारे में कहना है कि कोर्ट के इस फ़ैसले की वजह से उनके सामने रोज़ी-रोटी का संकट खड़ा हो गया है। जिसकी वजह से शिक्षा मित्रों के परिवार भूखे मर रहे हैं। और दूसरी तरफ खुद शिक्षा मित्र भी इस तनाव की वजह से आत्म हत्या करने पर मजबूर हो गए हैं।

ये भी पढ़ें :-  स्कूल डायरेक्टर और टीचर ने मिलकर किया स्टूडेंट का रेप, प्रेग्नेंट हुई तो कराया अबॉर्शन

यहाँ जनपद बिजनौर के विकास खण्ड अल्हेपुर के प्राथमिक विद्यालय हक़ीमपुर मेला में समायोजित शिक्षा मित्र के पद पर कार्यरत स्योहारा थाना क्षेत्र के ग्राम चकनपुरी निवासी 40 साल के संजीव कुमार पुत्र आशाराम ने सुप्रीम कोर्ट के फ़ैसले से बुरी तरह से नाराज होकर आत्महत्या कर अपनी जीवन लीला समाप्त कर ली है। जिसके बाद उनकी डेड बॉडी को लेकर जिले भर के सैकड़ों शिक्षा मित्रों ने स्योहारा स्थित फव्वारा चौक पर मृतक का शव रख जाम लगाया और वहां योगी सरकार के खिलाफ़ जमकर नारेबाज़ी भी की और कहा कि, अगर शिक्षा मित्रो की नियुक्ति अवैध है तो प्रदेश की सरकार भी अवैध है इस सरकार को भी हटाया जाए ऐसे सरकार की कोई ज़रुरत नहीं है। उनकी डेड बॉडी लेकर जाम लगा रहे शिक्षा मित्रों में चन्द्र प्रताप सिंह, सुनील राजपूत, सुधीर चौहान, ओमप्रकाश सिंह, दिलावर सिंह, बबीता आदि सहित सैकड़ों लोग अपनी मांगों को लेकर इस जाम में शामिल रहे हैं।

ये भी पढ़ें :-  योगी सरकार का तुग़लकी फरमान: PM मोदी की सभा के लिए हर मदरसों से 25-25 महिलाओं को भेजने का आदेश
लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>