मंदसौर में पीड़ित किसानों के बीच शिवराज, भोपाल में कांग्रेस का सत्याग्रह

Jun 14, 2017
मंदसौर में पीड़ित किसानों के बीच शिवराज, भोपाल में कांग्रेस का सत्याग्रह

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान बुधवार से दो दिन के दौरे पर मंदसौर पहुंच गए हैं। शिवराज पुलिस कार्रवाई में मारे गए छह किसानों के परिजनों से मुलाकात कर रहे हैं। वहीं, राजधानी में किसानों की मांगों के समर्थन व पुलिस कार्रवाई के विरोध में कांग्रेस ज्योतिरादित्य सिंधिया की मौजूदगी में बुधवार से 72 घंटे का सत्याग्रह शुरू कर रही है।

मुख्यमंत्री चौहान राजकीय विमान से भोपाल से मंदसौर पहुंचे। यहां से वह बडवन पहुंचे, जहां उन्होंने घनश्याम धाकड़ के परिजनों से मुलाकात की। धाकड़ की पुलिस पिटाई से मौत हुई थी। धाकड़ के परिजनों में पुलिस को लेकर खासी नाराजगी है। मुख्यमंत्री चौहान ने उन्हें भरोसा दिलाया है कि वे उनकी हर संभव मदद करेंगे।

ये भी पढ़ें :-  पहले मिटाई अपनी हवस की भूख, फिर लड़की पर मिट्टी का तेल डाल लगाई आग

मुख्यमंत्री मंदसौर के लोध गांव जाएंगे। यहां से वह नीमच जिले के जीरन में ग्राम नयाखेड़ा, मंदसौर के बरखेडापंथ, पिपलिया मंडी, बूढ़ा, टकरावद, सुवासरा में हिंसा प्रभावित परिवारों से मुलाकात करेंगे। वहां से मंदसौर पहुंचकर संजय गांधी उद्यान स्थित पंडित मदनलाल जोशी सभागृह में नागरिकों और किसानों से मुलाकात करेंगे।

आधिकारिक जानकारी के अनुसार, चौहान रात्रि विश्राम मंदसौर में ही करेंगे। मुख्यमंत्री चौहान गुरुवार को भी मंदसौर में ही रहेंगे और विभिन्न स्थानीय कार्यक्रमों में हिस्सा लेंगे।

वहीं दूसरी ओर कांग्रेस की प्रदेश इकाई ने बुधवार से 72 घंटे के सत्याग्रह की घोषणा की है। टीटी नगर के दशहरा मैदान में दोपहर (तीन बजे) से शुरू होने वाले इस सत्याग्रह का नेतृत्व सिंधिया करेंगे।

ये भी पढ़ें :-  योगी राज में प्रदेश पर चढ़ा भगवा का खुमार, थाने पर भी चढ़ा भगवा रंग

इस सत्याग्रह में प्रदेशाध्यक्ष अरुण यादव, विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह सहित कई नेता मौजूद रहेंगे। सत्याग्रह के बाद 17 जून को कांग्रेस ने खरगाौन के खलघाट में किसान महापंचायत का आयोजन किया है।

ज्ञात हो कि किसान आंदोलन के दौरान मंदसौर में पुलिस कार्रवाई में छह किसानों की जान चली गई थी। मुख्यमंत्री चौहान ने इनके परिजनों को एक-एक करोड़ रुपये की आर्थिक सहायता व परिवार के एक व्यक्ति को नौकरी देने का ऐलान किया था।

पीड़ितों को यह राशि मंगलवार तक नहीं मिल पाई थी। राज्य शासन द्वारा मंगलवार को मुख्यमंत्री स्वेच्छानुदान से एक करोड़ रुपये प्रति व्यक्ति के मान से छह करोड़ रुपये की आर्थिक सहायता स्वीकृत कर दी गई। यह सहायता राशि मंदसौर के जिलाधिकारी के माध्यम से ई-पेमेंट द्वारा मृतकों के परिजन को दी जाएगी।

ये भी पढ़ें :-  जो ये कहते हैं कि बीते 60 बरस में कांग्रेस ने कुछ नहीं किया वे मूर्ख हैं: शिवसेना
लाइक करें:-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>