सलमा अंसारी के बयान पर जवाब ,नमाज की पांच क्रियाएँ भी हैं योग: आदित्यनाथ

May 25, 2016

गोरखपुर: शहर सांसद योगी आदित्यनाथ ने ओम विवाद पर उप राष्ट्रपति हामिद अंसारी की पत्नी सलमा अंसारी के बयान का स्वागत करते हुए कहा है की योग और ओम को विवादित बनाना वास्तविकता को ना समझने और लोगों की नासमझी को ही प्रदर्शित करता है।

उनका कहना था की कुछ लोग इसको आनावश्यक साम्प्रदायिक मसला बनाने का प्रयास कर रहे है।

उन्होंने कहा की श्रीमती अंसारी ने जो बात कही है वो बहुत अच्छी बात है। ओम-ओमकार इस सृष्टी की प्रथम धूनी है। तीन अक्षरों से मिलकर अ, ऊ और म से बना है। इसमे हमारे शरीर में स्थित चक्रों और अन्तः श्रावी ग्रन्थियों पर प्रभाव पड़ता है। इससे जुडी हुई विज्ञान की प्रदत्ती है। ओमकार का उच्चारण इसलिए यह स्वास्थ्य की दृष्टि से प्रणाली की शुद्धता की दृष्टि से एक उत्तम क्रिया इसको मान सकते है। जहाँ तक योग भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के प्रयास से भारत के इस प्राचीन विधा को अन्तर्राष्ट्रीय मान्यता प्राप्त हुई।

उन्होंने कहा की 21 जून अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस के रूप में मनाया जा रहा है हमारा प्रत्येक कार्य जो संयम बद्ध हो अपने आप में एक योग है। उन्होने ठीक कहा नमाज जो पढते है नमाज की जो पाँच क्रियाये हैं वह अपने आप में योग ही हैं, लेकिन समस्या यह है कि जो लोग समझे तो बात कही जाये, जो ना समझ है। समझने का प्रयास नहीं करना चाहते हैं। आप रास्ता उनको दिखा सकते है जो सचमुच अन्धा हो। जो अन्धा होने का ढोंग करे उसका कोई इलाज नहीं है।

वही बजरंग दल द्वारा हथियारो का प्रशिक्षण दिये जाने के सवाल पर योगी ने कहा कि इसमे कोई बुराई नहीं है।

उन्होंने कहा,”मै कहता हूँ कि इस देश के प्रत्येक नागरिक को सैन्य ट्रेनिग देनी चाहिए और वह हर विपरीत परिस्थिति मे समाज के लिए और राष्ट्र के लिए काम कर सके जिससे हर एक व्यक्ति को सैन्य ट्रेनिगं देनी चाहिए।”

अन्य ख़बरों से लगातार अपडेट रहने के लिए हमारे Facebook पेज को Join करे

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>